Skip to main content

30 अप्रैल तक आपका बैंक अकाउंट ब्लॉक हो सकता है

आपका बैंक अकाउंट ब्लॉक हो सकता है. अगर आपने बैंक को अपना आधार नंबर नहीं बताया हुआ है, तो ये महीना ख़त्म होने से पहले दे आइए. वरना अकाउंट ब्लॉक हो जाएगा. अपने बाकी कागज़ात भी वेरिफाई करवा डालिए. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने कहा है कि 1 जुलाई 2014 से 31 अगस्त 2015 के बीच खुले वो तमाम बैंक अकाउंट ब्लॉक कर दिए जाएंगे, जिनके कागज़ात पूरे नहीं हैं.
सेंट्रल बोर्ड ऑफ़ डायरेक्ट टैक्सेस (CBDT) ने एक स्टेटमेंट जारी करके कहा कि जिनके KYC डॉक्युमेंटस अधूरे हैं, उन्हें सूचित किया जाएगा कि वो 30 अप्रैल 2017 से पहले उनकी सेल्फ-सर्टिफाइड प्रतियां बैंक में जमा कर दे. ऐसा करने में नाकाम रहने पर उनका बैंक अकाउंट ब्लॉक कर दिया जाएगा. जिसका मतलब है वो अपने अकाउंट से किसी भी तरह का लेन-देन नहीं कर पाएंगे. ये कदम FATCA (Foreign Account Tax Compliance Act) के तहत उठाया जाएगा.


ये सिर्फ बैंक अकाउंट के साथ ही नहीं होगा. म्यूच्यूअल फंड्स, इंश्योरेंस जैसी सेवाओं पर भी इसका असर पड़ेगा. एक बार डिटेल्स अपडेट करने के बाद अकाउंट होल्डर फिर से अपना खाता ऑपरेट कर सकेंगे. जुलाई 2015 में भारत और अमेरिका ने यूएस के कानून FATCA के तहत टैक्स इनफॉर्मेशन शेयरिंग एग्रीमेंट साइन किया था. ये समझौता कालेधन पर लगाम लगाने के मकसद से किया गया था. इसके अंतर्गत भारत और अमेरिका वित्तीय संस्थानों से जुड़ी जानकारी साझा कर सकते हैं और टैक्स चोरों पर निगाह रख सकते हैं.
हालांकि ये सिर्फ उन अकाउंट होल्डर्स के लिए है जो जुलाई 2014 से अगस्त 2015 के बीच खुले हैं. इनको अपना आधार कार्ड भी बैंक अकाउंट और अन्य वित्तीय सेवाओं से लिंक करना होगा. इसके लिए पहले भी समय-समय पर बैंक KYC अभियान चलाते रहे हैं. KYC डॉक्यूमेंटस यानी वो कागज़ात जिनमें अकाउंट होल्डर के बारे में तमाम ज़रूरी जानकारी होती है. एड्रेस प्रूफ, आईडी प्रूफ, पैन नंबर वगैरह. इन्हीं के साथ अब आधार नंबर भी देना होगा. हर एक की सेल्फ-सर्टिफाइड कॉपी बैंक में जमा करानी होगी. 
अगर किसी वजह से तयशुदा समयसीमा में कागज़ात जमा न हो पाए और आपका अकाउंट ब्लॉक हो जाए तो डरने की ज़रूरत नहीं है. आप बाद में कभी भी जमा कर के अपना अकाउंट अनब्लॉक करवा सकते हैं. हालांकि बेहतर यही रहेगा की किसी भी असुविधा से बचने के लिए वक़्त रहते ये काम कर लिया जाए.

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST