Skip to main content

प्रायवेट स्कूलों की प्रथम कक्षा में प्रवेश के लिये आवेदन की अंतिम तिथि 31 मई



ऑनलाइन लॉटरी से मिलेगा 5 जून को निजी स्कूलों में प्रवेश
उज्जैन । प्रदेश में नि:शुल्क शिक्षा का अधिकार कानून के तहत प्रायवेट स्कूलों की प्रथम कक्षा में नि:शुल्क प्रवेश अब 31 मई-2017 तक किये जा सकेंगे। ऑनलाइन आवेदन की पूर्व में यह तिथि 15 मई निर्धारित की गयी थी। प्रवेश तिथि में संशोधन इसलिये किया गया है कि अनेक प्रायवेट स्कूलों द्वारा आरटीआई में निर्धारित रिक्त सीटों की जानकारी पोर्टल पर अपलोड नहीं की गयी थी। तिथि बढ़ाये जाने से वंचित समूह और कमजोर वर्ग के अधिक से अधिक बच्चों को इसका लाभ दिलवाया जा सकेगा।

नि:शुल्क प्रवेश के लिये आवेदन-पत्र का प्रारूप जनशिक्षा केन्द्र, बीआरसी, बीईओ, जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में उपलब्ध है। ऑनलाइन आवेदन में दिक्कत आने पर प्रदेश के सभी विकासखण्ड में बीआरसी कार्यालय में हेल्प-डेस्क बनायी गयी है। पोर्टल पर पंजीकृत आवेदन को ही लॉटरी प्रक्रिया में शामिल किया जायेगा। केन्द्रीय सिस्टम से पूरी पारदर्शिता अपनाते हुए रेण्डमाइजेशन द्वारा 5 जून को ऑनलाइन लॉटरी के माध्यम से छात्रों को स्कूलों की सीट का आवंटन किया जायेगा। लॉटरी प्रक्रिया के बाद आवंटित सीट की जानकारी आवेदक को उसके पंजीकृत मोबाइल नम्बर पर एसएमएस से प्रदान की जायेगी। यह सूची एजुकेशन पोर्टल पर भी उपलब्ध रहेगी।
रेण्डम प्रक्रिया से सीट आवंटन होने के बाद सभी दस्तावेज का सत्यापन 7 से 15 जून तक बीआरसी कार्यालय में किया जायेगा। प्रवेश के लिये जिस केटेगरी अथवा निवास क्षेत्र के माध्यम से स्कूल में प्रवेश चाहा गया है, उसी केटेगरी एवं निवास का सत्यापन संबंधित मूल प्रमाण-पत्र से किया जायेगा।
संदर्भ पढ़ें

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है? सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केम

18 अनसुनी बाते ताजमहल की! यह बाते आपने कही नहीं सुनी होगी!!!

ताजमहल सिर्फ़ प्यार की निशानी ही नहीं हैं, बल्कि इसका नाम दुनिया के सात अजूबों में भी शुमार किया जाता है. इस खूबसूरत और प्यार की कहानी बयां करने वाली इमारत को किसने किस लिए बनवाया हम सब जानते हैं पर इसके बावजूद बहुत सी ऐसी बातें भी है जिन्हें हम नहीं जानते. हम आज आपको ताजमहल के उन्हीं रहस्यों के बारे में बता रहे हैं, जो इस खूबसूरत इमारत की चकाचौंध में नहीं दिखाई पड़ते. 1. मुमताज़ के मकबरे की छत पर एक छेद मकबरे की छत की छेद से टपकते पानी की बूंद के पीछे कई कहानियां प्रचलित है, जिसमें से एक यह है कि जब शाहजहां ने सभी मज़दूरों के हाथ काट दिए जाने की घोषणा की ताकि वे कोई और ऐसी खूबसूरत इमारत न बना सके तो मजदूरों ने ताजमहल को पूरा के बावजूद इसमें एक ऐसी कमी छोड़ दी जिससे शाहजहां का खूबसूरत सपना पूरा न हो सके. Source:  wallpaperup 2. ताजमहल के चारों ओर बांस का घेरा द्वितीय विश्व युद्ध, 1971 भारत-पाक युद्ध और 9/11 के बाद इस भव्य इमारत की सुरक्षा के लिए ASI ने ताजमहल के चारों और बांस का सुरक्षा घेरा बना कर उसे हरे रंग की चादर से ढक दिया था, जिससे ताजमहल दुश्मनों को नज़र न आये और इसे किसी प्रकार की