Skip to main content

7वां वेतन आयोग : अलाउंस समिति की रिपोर्ट पर अभी तक का अपडेट पढ़े

Image result for 7th pay commission
नरेंद्र मोदी कैबिनेट सैन्य बलों के कर्मियों की बड़ी मांग मानते हुए विकलांगता पेंशन की पुरानी व्यवस्था के साथ बने रहने और सातवें वेतन आयोग (7वें पे-कमीशन ) की सिफारिश वाली नई व्यवस्था को नहीं अपनाने का फैसला किया. सेना की ओर से सरकार के इस फैसले का स्वागत भी हुआ और रक्षामंत्रालय ने इस संबंध में आदेश भी पारित कर दिया है. 



लेकिन इस सबके बीच केंद्रीय कर्मचारियों की सातवें वेतन आयोग को लेकर कई मांगें अभी भी अटकी हुई है. कई और मुद्दे अभी भी अपने अंजाम तक नहीं पहुंचे हैं. कर्मचारियों को सबसे ज्यादा न्यूनतम वेतनमान और अलाउंस को लेकर उत्सुकता बनी हुई है. 

जानकारी के लिए बता दें कि इस कैबिनेट की बैठक में अलाउंस के मुद्दे से जुड़ा कैबिनेट नोट पेश होना था लेकिन अभी यह नोट तैयार नहीं हुआ है. सूत्रों से मिली जानकारी के अभी इस नोट को तैयार होने में 10-15 दिन का समय और लग सकता है. 

जानकारी प्राप्त हुई है कि अभी मुद्दा एंपावर कमेटी तक भी नहीं पहुंचा है. पहले लवासा कमेटी की रिपोर्ट इस सचिवों की उच्‍चाधिकार प्राप्‍त समिति के पास जाएगी. यहां से यह समिति अपनी सिफारिश देगी जिसके बाद कैबिनेट तैयार होगा. अभी तक  की जानकारी के अनुसार अभी यह समिति इस रिपोर्ट का अध्ययन कर रही है. वहीं, कुछ सूत्रों का दावा है कि अभी इस समिति ने इस रिपोर्ट का अध्ययन भी शुरू नहीं किया है. जब यह समिति इस रिपोर्ट का पूरा अध्ययन कर लेगी तब जाकर कैबिनेट नोट तैयार होगा और उसके बाद यह कैबिनेट की बैठक में रखा जाएगा जिसके बाद सरकार इस बारे में कोई निर्णय लेगी. 

वहीं, जब इस बारे में एनसीजेसीएम के संयोजक और कर्मचारी नेता शिवगोपाल मिश्र से बात की गई तब उनका कहना था कि सरकार की ओर से इस पूरे मामले में बेवजह की देरी हो रही है. इस पूरी देरी से कर्मचारी वर्ग बहुत नाराज है. उन्होंने बताया कि इस पूरी नाराजगी को लेकर उन्होंने कैबिनेट सेक्रेटरी से मुलाकात की है. कर्मचारियों की नाराजगी के संबंध में उन्होंने कैबिनेट सेक्रेटरी को अवगत कराया है. 

साथ ही उन्होंने बताया कि अब कर्मचारी इन सभी मुद्दों को लेकर अपनी बैठक करेंगे और आगे की रणनीति पर चर्चा करेंगे. जानकारी के लिए बता दें कि कई अन्य कर्मचारी संघ इन सभी देरी के चलते सरकार से टकराव के मूड में हैं. वे जल्द विरोध प्रदर्शन करेंगे.

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है? सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केम

18 अनसुनी बाते ताजमहल की! यह बाते आपने कही नहीं सुनी होगी!!!

ताजमहल सिर्फ़ प्यार की निशानी ही नहीं हैं, बल्कि इसका नाम दुनिया के सात अजूबों में भी शुमार किया जाता है. इस खूबसूरत और प्यार की कहानी बयां करने वाली इमारत को किसने किस लिए बनवाया हम सब जानते हैं पर इसके बावजूद बहुत सी ऐसी बातें भी है जिन्हें हम नहीं जानते. हम आज आपको ताजमहल के उन्हीं रहस्यों के बारे में बता रहे हैं, जो इस खूबसूरत इमारत की चकाचौंध में नहीं दिखाई पड़ते. 1. मुमताज़ के मकबरे की छत पर एक छेद मकबरे की छत की छेद से टपकते पानी की बूंद के पीछे कई कहानियां प्रचलित है, जिसमें से एक यह है कि जब शाहजहां ने सभी मज़दूरों के हाथ काट दिए जाने की घोषणा की ताकि वे कोई और ऐसी खूबसूरत इमारत न बना सके तो मजदूरों ने ताजमहल को पूरा के बावजूद इसमें एक ऐसी कमी छोड़ दी जिससे शाहजहां का खूबसूरत सपना पूरा न हो सके. Source:  wallpaperup 2. ताजमहल के चारों ओर बांस का घेरा द्वितीय विश्व युद्ध, 1971 भारत-पाक युद्ध और 9/11 के बाद इस भव्य इमारत की सुरक्षा के लिए ASI ने ताजमहल के चारों और बांस का सुरक्षा घेरा बना कर उसे हरे रंग की चादर से ढक दिया था, जिससे ताजमहल दुश्मनों को नज़र न आये और इसे किसी प्रकार की