Skip to main content

हार्दिक पटेल को पुलिस ने मंदसौर पहुंचने से पहले हिरासत में लिया

Image result for hardik patelपाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल आज किसानों से मिलने मध्य प्रदेश के मंदसौर जा रहे थे। सुरक्षा कारणों से उन्हें मंदसौर पहुंचने से नीमच में पुलिस ने हिरासत में लिया। 


हार्दिक अपनी यात्रा के दौरान मंदसौर में आंदोलित किसानों के सदस्यों से मुलाकात करने वाले थे। हार्दिक पटेल ने कहा कि गुजरात का पाटीदार समुदाय हमेशा मध्यप्रदेश के किसानों के समर्थन में है। हम इस लड़ाई में उनके साथ हैं।

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में किसान आंदोलन के दौरान मंदसौर में फोर्स की फायरिंग की वजह से हालात बिगड़ गए थे। पुलिस फायरिंग में 6 लोगों की मौत भी हो गई थी। प्रशासन ने स्थिति को नियंत्रित करने के लिए मंदसौर में कर्फ्यू लगा दिया था। घटना के तुरंत बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कैबिनेट की आपात बैठक बुलाई और मामले की न्यायिक जांच के आदेश दे दिए। मारे गए लोगों के परिजनों को 10 लाख रुपये के मुआवजे का ऐलान किया गया।

  इतना ही नहीं राज्य में हिंसक अांदोलन के कारण शांति के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दो दिन तक उपवास कर किसानों की समस्या सुनी अौर उसके निराकरण का अाश्वासन भी दिया। किसानों के अाग्रह पर शिवराज सिंह ने अपना उपवास तोड़ा था।  

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि पुलिस के द्वारा कोई फायरिंग नहीं हुई है, पिछले पांच-छह दिनों से मंदसौर और नीमच में असमाजिक तत्व आगजनी और लूटपाट करने का काम कर रहे हैं। सरकार ने निर्देश दिए थे कि प्रदर्शनकारियों पर कोई सख्ती नहीं होनी चाहिए। पुलिस के साथ कई दिनों से मारपीट हो रही है, एक पुलिसकर्मी की आंख फूट गई, लेकिन हमने फिर भी किसी भी सख्ती के निर्देश नहीं दिए। हमने जांच के आदेश दे दिए हैं।

इससे पूर्व मंदसौर में गुस्साए किसानों ने दलौदा के पास रेलवे पटरी उखाड़ दी थी और सिग्नल सिस्टम को भी नुकसान पहुंचाया, जिसकी वजह से ट्रेन यातायात प्रभावित हुआ। रेलवे स्टेशन पर हंगामे के अलावा प्रदर्शनकारियों ने दलौदा में महू नीमच मार्ग को जाम कर दिया था। जिसके चलते भोपाल से रेल ट्रैफिक भी प्रभावित था।

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST