Skip to main content

सुप्रीम कोर्ट में नौकरी पाने का सुनहरा अवसर, 10 पासों को 33 हजार वेतन मिलेगा

सुप्रीम कोर्ट में नौकरी पाने का सुनहरा अवसर, 10 पासों को 33 हजार वेतन मिलेगा

यदि आप सर्वोच्च न्यायालय में काम करना चाहते हैं, तो आपके लिए एक सुनहरा मौका है भारत के सुप्रीम कोर्ट ने जूनियर कोर्ट के परिचर और चैंबर कोर्ट परिचर के लिए 78 स्थानों जारी किए हैं। जिसमें 65 वें कनिष्ठ न्यायालय ने चैंबर अदालती उपस्थिति के 13 नंबरों के लिए एक सूचना जारी की है। इन शर्तों के लिए, इसे मानक 10 तक अध्ययन किया जाना चाहिए। जबकि आयु सीमा 18 से 27 साल के बीच है। इस पद के लिए आवेदन करने की आखिरी तारीख अप्रैल 15, 2018 है और इसके लिए आप सर्वोच्च न्यायालय की वेबसाइट www.sci.nic.in पर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।स्थिति: जूनियर कोर्ट उपस्थिति
वेतन: 33,315 रुपये
योग्यता: ड्राइविंग, खाना पकाने, बिजली, बढ़ईगीरी जानकारी और अनुभव के अलावा मानक 10 पास।
आयु सीमा: 1 मार्च, 2018 तक, 18 से 27 वर्ष की उम्र के बीच होना चाहिए।
चयन प्रक्रिया: लिखित परीक्षा दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु और कोलकाता में आयोजित की जाएगी। लिखित परीक्षा पास करने के बाद, कौशल परीक्षण लिया जाएगा।
शुल्क: सामान्य कोटा, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, शारीरिक रूप से विकलांग, पूर्व सैनिकों के लिए 300 रुपये और शुल्क के लिए 150 रुपये तय किए गए हैं। शुल्क ऑनलाइन केवल स्वीकार किए जाते हैं
अन्य जानकारी के लिए, संबंधित विज्ञापन के बारे में पढ़ने के लिए www.sci.nic.in में भर्ती पर क्लिक करें।
स्थिति: चैंबर कोर्ट अटेंडेंट
वेतन: 33,315 रुपये
योग्यता: ड्राइविंग, खाना पकाने, बिजली, बढ़ईगीरी जानकारी और अनुभव के अलावा मानक 10 पास।
आयु सीमा: 1 मार्च, 2018 तक, 18 से 27 वर्ष की उम्र के बीच होना चाहिए।
चयन प्रक्रिया: लिखित परीक्षा दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु और कोलकाता में आयोजित की जाएगी। लिखित परीक्षा पास करने के बाद, कौशल परीक्षण लिया जाएगा।
शुल्क: सामान्य कोटा, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, शारीरिक रूप से विकलांग, पूर्व सैनिकों के लिए 300 रुपये और शुल्क के लिए 150 रुपये तय किए गए हैं। शुल्क ऑनलाइन केवल स्वीकार किए जाते हैं
अन्य जानकारी के लिए, संबंधित विज्ञापन के बारे में पढ़ने के लिए www.sci.nic.in में भर्ती पर क्लिक करें।

यहां से करे आवेदन

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है? सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केम

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST