Skip to main content

शाला प्रवेशोत्सव स्लोगन 2017-18

*शाला प्रवेशोत्सव स्लोगन 2017-18*👇👇
१.
कोई न छूटेगा इस बार,
शिक्षा है सबका अधिकार' ‘
२.
'हिन्दु-मुस्लिम, सिख-इसाई . मिलकर के सब करें पढ़ाई’ ‘
३.
चाहे आधी रोटी ही खायेंगे,
लेकिन स्कूल जरूर जायेंगे’ ‘

४.
अब ना करो अज्ञानता की भूल,
हर बच्चे को भेजो स्कूल’ ‘
५.
एक भी बच्चा छूटा,
संकल्प हमारा टूटा' '
६.
घर-घर विद्या दीप जलाओ,
अपने बच्चे सभी पढ़ाओ',
७.
पढ़ी लिखी नारी,
घर-घर की उजियारी' '
८.
पढेंगे पढ़ायेंगे,
उन्नत देश बनाएंगे' ‘
९.
अनपढ़ होना है अभिशाप,
अब न रहेंगे अंगूठा छाप' ‘
१०.
शिक्षा से देश सजाएंगे,
हर बच्चे को पढ़ाएंगे’ '
११.
21वीं सदी की यहीं पुकार,
शिक्षा है सबका अधिकार’
१२.
‘हर घर में चिराग जलेगा,
हर बच्चा स्कूल चलेगा’
१३.
लड़का-लड़की एक समान,
यही संकल्प, यही अभियान’
१४.
‘मम्मी पापा हमें पढ़ाओ,
स्कूल में चलकर नाम लिखाओ’
१५.
‘हर घर में एक दीप जलेगा,
हर बच्चा स्कूल चलेगा’ ।
१६.
'हम भी स्कूल जाएंगे,
पापा का मान बढ़ाएंगे’
१७.
'दीप से दीप जलाएंगे,
साक्षर देश बनाएंगे'
१८.
'मिड डे मील हम खाएंगे,
   स्कूल में पढ़ने जाएंगे'।
१९.
'शिक्षा ऐसी सीढ़ी है,
जिससे चलती पीढ़ी है।
२०.
सर्व शिक्षा का है कहना,
पढ़ने जायें भाई बहना'
२१.
'सर्व शिक्षा का अभियान,
सबको मिले प्राथमिक ज्ञान'
२२.
पापा सुन लो विनय हमारी,
पढ़ने की है उम्र हमारी|
२३.
बच्चे मांगे प्यार दो,
शिक्षा का अधिकार दो|
२४.
'हम बच्चों का नारा है,
शिक्षा - अधिकार हमारा है।

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST