Skip to main content

जियोनी मैराथन एम3: आपको भी चाहिये 32 दिन की बैटरी!

Image result for GIONEE MARATHON M3
इस फ़ोन का बैटरी बैक-अप कितना है? स्मार्टफोन ख़रीदते समय तो ये सवाल और भी लाजिमी हो जाता है.

शायद यही वजह थी कि जियोनी ने अब तक की सबसे दमदार बैटरी वाला स्मार्टफोन बाज़ार में उतारने का दावा किया है और इसका नाम दिया है जियोनी मैराथन एम 3.
कंपनी ने फोन में 5000 एमएएच क्षमता की बैटरी लगाने की बात कही गई है. कंपनी का दावा है कि 3जी फ़ोन में यह बैटरी 32 घंटे से अधिक समय तक चलेगी. और अगर फोन स्टैंडबाई मोड में है तो फोन लगभग 32 दिनों तक चालू रहेगा.
एक और ख़ास बात है कि इस बैटरी को मोबाइल से अलग नहीं किया जा सकेगापत्रिका 'माई मोबाइल' के सह संपादक निमिष दुबे 5000 एमएएच बैटरी क्षमता को 'क्रांतिकारी' तो नहीं मानते हैं, लेकिन उनका कहना है कि स्मार्टफोन के मामले में यह बेहद अहम हो सकता है.
दुबे कहते हैं, "पिछले एक-दो साल से लोगों को बैटरी घटने की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था और इसकी वजह थी कि फोन लगातार पतले हो रहे थे."
कंपनी के दावे पर दुबे ने कहा, "5000 एमएएच क्षमता का मतलब आईफोन 6 प्लस में जो बैटरी होती है, यह लगभग उसका दोगुना है. इस लिहाज से इसे दमदार बैटरी कहा जा सकता है."

फीचर्स

ड्यूल-सिम सपोर्ट करने वाला जियोनी मैराथन एम 3 ऐंड्रॉयड 4.4 पर चलता है. इसमें 1280x720 पिक्सल रेजॉल्यूशन वाला 5 इंच का एचडी आईपीएस वन ग्लास सॉल्यूशन डिस्प्ले है.जियोनी मैराथन एम 3 में पीछे की तरफ एलईडी फ्लैश के साथ 8 मेगापिक्सल कैमरा है और 2 मेगा पिक्सल का फ्रंट कैमरा है.
8 जीबी इंटरनल स्टोरेज है और 128 जीबी तक माइक्रो-एसडी कार्ड लगाया जा सकता है.
पहली बार किसी कंपनी ने 5000 एमएएच क्षमता की बैटरी मोबाइल में फिट की है. कभी तक कई कंपनियां 4000 एमएएच बैटरी के साथ मोबाइल बेच रही हैं.
आनेवाले समय में 4जी नेटवर्क इस्तेमाल करने पर बैटरी का पहलू कितना अहम होगा, इस पर निमिष दूबे कहते हैं, "2जी और 3जी की बैटरी ख़पत में जो फ़ासला है, वह 3जी और 4जी में कम होगा. हाँ, निश्चित तौर पर 4जी नेटवर्क में बैटरी की खपत ज़्यादा तो होगी ही."

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST