Skip to main content

जानिए कैसे करें इस्तेमाल एंड्रायड और आईओएस के लिए गूगल मैप्स लाया पार्किंग लोकेशन सेव करने का नया फीचर,

Image result for google mapsगूगल मैप्स में एक छोटा सा अपडेट किया गया है। गूगल आईओएस और एंड्रायड यूजर्स के लिए नया फीचर लेकर आया है। यह फीचर पार्किंग लोकेशन सेव करने के लिए लाया गया है। कंपनी ने एक स्टेटमेंट में कहा की- ''Some say it's about the journey, not the destination - पर हमारा सोचना है की यह दोनों ही के बारे में है।


 एंड्रायड और आईओएस के लिए गूगल मैप्स आपकी वहां जाने में मदद नहीं करेगा जहां आपको जाना है, पर यह आपको याद दिलाएगा की आपने कहां पार्क किया है।
इस पोस्ट में हम आपको बताने जा रहे हैं आप अपने स्मार्टफोन में गूगल के इस फीचर का कैसे उपयोग कर सकते हैं।

एंड्रायड पर गूगल मैप्स पार्किंग लोकेशन सेव फीचर का कैसे करें इस्तेमाल:

स्टेप 1: अपनी डेस्टिनेशन पर पहुंचने के बाद गूगल मैप्स खोलें >> ब्लू डॉट पर टैप करें >> इसके बाद मैप पर अपनी पार्किंग लोकेशन सेव करने के लिए 'सेव योर पार्किंग' पर क्लिक करें।

स्टेप 2: अपने पार्किंग कार्ड को खोलने के लिए लेबल पर टैप करें, जहां आप अपने पार्किंग स्पॉट से सम्बंधित अन्य जानकारी उपलब्ध करा सकते हैं।
यूजर्स इसमें नोट एड कर सकते हैं, जैसे- "level 2, spot 57''। इसमें आप अपने पार्किंग स्पॉट की इमेज भी सेव कर सकते हैं और अपने दोस्तों को पार्किंग लोकेशन सेंड भी कर सकते हैं।
आईओएस पर गूगल मैप्स पार्किंग लोकेशन सेव फीचर का कैसे करें इस्तेमाल:
गूगल मैप्स का आईओएस वर्जन भी एंड्रायड वेरिएंट की तरह ही काम करता है। पर यह एक और ऑटो-डिटेक्ट फीचर के साथ आता है। अगर यूजर डिवाइस कार के साथ USB ऑडियो या ब्लूटूथ के जरिये कार से कनेक्टेड है तो जब यूजर वहां से बाहर निकलेगा या डिसकनेक्ट करेगा तो पार्किंग स्पॉट अपने आप ही मैप में एड हो जाएगा।
गूगल मैप्स ने एक नया ऑप्शन लॉन्च किया है, जिसके जरिए आप दोस्तों की लोकेशन ट्रैक कर सकते हैं। यानी कि आपका दोस्त कहां और किस रास्ते से जा रहा है, उसकी रियल टाइम लोकेशन आपके फोन में नजर आएगी। यह अपडेट जल्द ही एंड्रायड और आईओएस यूजर्स के लिए जारी किया जाएगा।

आपको याद दिला दें, इससे पहले हाल ही में गूगल एक और अपडेट लेकर आया था। इसके अंतर्गत अब आप गूगल मैप्स से परिवार और दोस्तों से अपनी रियल टाइम लोकेशन शेयर कर सकते हैं।

घर बैठे दोस्तों को करें ट्रैक:
इस नए अपडेट के बाद मैप्स में रियल टाइम लोकेशन सेंड करने का फीचर जुड़ गया है, जिसकी मदद से आप अपने दोस्तों या परिवार वालों को अपनी रियल टाइम लोकेशन की जानकारी दे सकते हैं। ध्यान रखिए यह लोकेशन शेयरिंग फीचर नहीं है, बल्‍िक इससे रियल टाइम ट्रैकिंग की जा सकेगी। यानी कि आपका दोस्त कहां और किस रास्ते से जा रहा है, यह सबकुछ आप घर बैठे अपने फोन में देख सकते हैं।

कैसे काम करेगा यह?
लोकेशन सेंड करने के लिए यूजर्स को सबसे पहले गूगल मैप्स में साइड बार पर लगे मैन्यू ऑप्शन पर जाना होगा। इसके बाद उसमें से “शेयर लोकेशन” का ऑप्शन सेलेक्ट कर, उस कॉन्टेक्ट नंबर पर लोकेशन भेज देंगे, जिसे आप लोकेशन भेजना चाहते हैं। कंपनी के मुताबिक, नया अपडेट जल्द ही एंड्रायड और आईओएस मोबाइल यूजर्स के लिए उपलब्ध होगा। हालांकि, कंपनी ने अभी तक इसके लॉन्च की कोई डेट तय नहीं की है।

बंद भी कर सकते हैं ये ऑप्शन:
लोकेशन शेयर करने के बाद आपके दोस्त के गूगल मैप्स एप पर एक छोटा फेस आइकन दिखेगा, जिससे आपके दोस्त को यह पता चलता रहेगा कि आप कहां जा रहे हैं। ठीक वैसे ही जैसे ओला या उबर कैब की मूवमेंट ट्रैक करते हैं। गूगल मैप्स एप में बने Compass के ऊपर एक छोटा आइकन आपको याद दिलाता रहेगा कि कितने समय के लिए यूजर की लोकेशन शेयर की गई है। हालांकि, अगर आप चाहें तो समय से पहले भी लोकेशन शेयर बंद कर सकते हैं। बंद करने पर आपके दोस्त आपको ट्रैक नहीं कर सकेंगे।

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST