Skip to main content

खुशखबरी: सोने में आई भारी गिरावट, जानें नई कीमत

नई दिल्ली। घरेलू बाजार में अक्षय तृतीया के त्योहार के मद्देनजर मांग रहने के बावजूद विदेशी बाजारों में रही भारी गिरावट के दबाव में दिल्ली सर्राफा बाजार में मंगलवार को सोना लगातार दूसरे दिन की गिरावट के साथ 50 रुपए लुढ़ककर करीब दो सप्ताह के निचले स्तर 29,600 रुपए प्रति दस ग्राम पर आ गया। सोने की कीमतों में पिछले दो दिन में 400 रुपए की गिरावट आई है।


चांदी पर भी अंतरराष्ट्रीय दबाव रहा लेकिन स्थानीय मांग बनी रहने से घरेलू बाजार में इसके भाव 41,600 रुपए प्रति किलोग्राम पर टिके रहे। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोना स्टैंडर्ड 5.65 डॉलर टूटकर 1,270.10 डॉलर प्रति औंस पर आ गया। जून का अमेरिकी सोना वायदा 5.8 डॉलर लुढ़ककर 1,271.70 डॉलर प्रति औंस पर रहा। विश्लेषकों के अनुसार, आने वाले समय में जैसे ही अनिश्चितताएं खत्म होगीं तो सोने की कीमतों में और तेजी से गिरावट आएगी।
वैश्विक दबाव में सोना स्टैंडर्ड 50 रुपए फिसलकर 11 अप्रैल के बाद के निचले स्तर 29,600 रुपए प्रति दस ग्राम पर आ गया। सोना वायदा भी इतना ही टूटकर 29,450 रुपए प्रति दस ग्राम बोला गया। हालांकि, आठ ग्राम वाली गिन्नी 24,400 रुपए के भाव टिकी रही।
अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीमतों के टूटने के बावजूद घरेलू स्तर पर चांदी की ग्राहकी ठीक-ठाक रही जिससे चांदी हाजिर 41,600 रुपए प्रति किलोग्राम पर टिकी रही। चांदी वायदे में 10 रुपए की मामूली तेजी रही और यह 40,950 रुपए प्रति किलोग्राम बोली गई। चांदी में रहे टिकाव का असर सिक्कों पर भी दिखा। सिक्का लिवाली और बिकवाली क्रमश: 71 हजार और 72 हजार रुपये प्रति सैकड़ा पर स्थिर रहे।
दिल्ली सर्राफा बाजार में दोनों कीमती धातुओं के दाम (रुपये में) इस प्रकार रहे :-
सोना स्टैंडर्ड प्रति दस ग्राम : 29,600
सोना बिटुर प्रति दस ग्राम : 29,450
चांदी हाजिर प्रति किलोग्राम : 41,600
चांदी वायदा प्रति किलोग्राम : 40,950
सिक्का लिवाली प्रति सैकड़ा : 71,000
सिक्का बिकवाली प्रति सैकड़ा : 72,000
गिन्नी प्रति आठ ग्राम : 24,400

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST