Skip to main content

अतिथि शिक्षकों की जगह होगी सीधी भर्ती

देहरादून । प्रदेश में शिक्षकों की पदोन्नती का रास्ता लगभग साफ हो गया है। राज्य में अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति को कोर्ट से दो महीने की छूट मिल गई है। इससे सरकार को राहत मिली है। अब शिक्षा विभाग ने अपना सारा ध्यान स्थाई नियुक्तियों पर केंद्रित कर लिया है। सरकार ने लोक सेवा आयोग और उत्तराखंड अधीनस्थ चयन आयोग से सीधी भर्ती के प्रस्तावों पर जल्द से जल्द कार्रवाई शुरू करने का अनुरोध किया है। वहीं दूसरी तरफ 50 फीसदी पदों को प्रमोशन कोटे से भरने की कसरत शुरू कर दी गई है। माध्यमिक शिक्षा निदेशक आरके कुंवर ने बताया कि दोनों मंडलीय अपर निदेशक से प्रमोशन के लिए पात्र हो चुके शिक्षकों की रिपोर्ट मांगी गई है। पदोन्नती की प्रक्रिया जल्द ही शुरू कर दी जाएगी। राज्य की शिक्षा व्यवस्था में सुधार के लिए कांग्रेस सरकार ने अतिथि शिक्षकों की व्यवस्था शुरू की थी। हाईकोर्ट ने उनकी नियुक्तियों को असंवैधानिक करार दे दिया था। इसके साथ ही 31 मार्च 2017 के बाद इनकी सेवाएं समाप्त करने के आदेश दिए थे।

हाईकोर्ट के इस आदेश के बाद हजारों अतिथि शिक्षकों के सामने रोजी रोटी की समस्या खड़ी हो गई थी। इसके खिलाफ हाईकोर्ट में विशेष अपील पर सुनवाई के बाद इसमें दो महीने के लिए छूट दे दी गई थी। 11 अप्रैल को आए हाईकोर्ट के पफैसले में अतिथि शिक्षक व्यवस्था को मई 2017 तक ही बरकरार रखने की छूट दी गई है। दो महीने बाद इनकी सेवाएं समाप्त कर दी जाएंगी। इसके बाद शिक्षा विभाग ने सीधी भर्ती के जरिए शिक्षकों के पदों को भरने का पफैसला लिया है। माध्यमिक शिक्षा निदेशक आरके कुंवर ने बताया कि सीधी भर्ती के लिए विभाग ने लोक सेवा आयोग को प्रवक्ता के 915 पद और एलटी कैडर में 1300 पदों की भर्ती का प्रस्ताव भेजा था। अब भर्ती की कार्रवाई जल्द शुरू करने का अनुरोध किया गया है। कोर्ट ने अतिथि शिक्षकों को भले ही दो महीने की रियायत दी है लेकिन नौकरी पर लौटने के लिए उन्हें अभी इंतजार करना होगा। उनकी सेवाएं 31 मार्च 2016 को खत्म हो चुकी हैं। अब दो महीने के लिए सरकार को नया शासनादेश जारी करना होगा। माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने बताया कि इसके लिए प्रस्ताव सरकार को भेज दिया गया है।

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST