Skip to main content

WiFi स्पीड करनी है तेज, अपनाइए ये पांच आसान तरीके

Image result for wifiटेक्नोलॉजी के विकास के साथ ही वायरलेस डिवाइसेस की मांग बढ़ गई है। वाइ-फाइ का उपयोग दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है। ऐसे में हमें इसके उपयोग करने के तरीकों के बारे में जान लेना चाहिए। अगर आपके सिस्टम में वाइ-फाइ की स्पीन धीमी हो गई तो उसे तेज कैसे किया जाए, इसके लिए हम आपको पांच आसान तरीके बताने जा रहे हैं।

1. Switch Channels :
राउटर्स कई चैनल के जरिए ब्राडकॉस्ट होता है। जिसमें कि 1 से लेकर 11 चैनल शामिल होते हैं। अगर कभी भी आपको राउटर्स सिग्नल में प्राब्लम दिखे तो आप चैनल बदलकर भी देख सकते हैं। इसके लिए आपके पास सॉफ्टवेयर होना चाहिए, जो यह एनालाइज कर सके कि कौन-सा चैनल खाली है और वह आपके सिस्टम के लिए बेहतर है।

2. Look for Interference :
वायरलैस राउटर को ऐसी जगह रखें जहां सिग्नल को लेकर किसी तरह की अड़चन न हो। इसमें कॉर्डलेस फोन, माइक्रोवेव ओवन, बेबी मॉनीटर्स, सिक्योरिटी अलॉर्म, टीवी रिमोट कंट्रोल और ऑटोमेटिक गैरेज डोर ओपनर्स जैसी जगहें से बचकर रहें। राउटर सिग्नल स्ट्रेंथ में अगर कोई दिक्कत आती है तो सबसे पहले सिग्नल बॉर को चेक करें। अगर उसके सिग्नल कम लगे, तो आप कुछ डिवाइसेस को बंद करके भी देख सकते हैं। जब तक सिग्नल स्ट्रांग न हो जाए।

3. Network broadcast mode :
इसके लिए आप नया 802.11n स्टैंडर्ड राउटर यूज कर सकते हैं। 802.11n कई ऑफर्स के साथ उपलब्ध है। और इसमें 802.11 a/b/g के मुकाबले काफी बेहतरी रेंज और स्ट्रांग सिग्नल मिलेंगे।

4. Relocate :
कभी-कभार कुछ दिक्कतें ऐसी होती हैं जिन्हें हम चुटकी में ही सॉल्व कर सकते हैं। यानी कि राउटर का सिग्नल वीक होते ही आप उसको रिलोकेट कर सकते हैं।

5. Be aware of external interference :
अक्सर देखा जाता है कि अपार्टमेंट आदि मल्टीकस्टोरी बिल्डिंग्स में कई राउटर्स एक साथ लगे होते हैं। ऐसे में आप चाहें तो एक अलग जगह अपने राउटर्स को रख सकते हैं। ताकि आपके पड़ोसी के साथ सिग्नल क्लैश हो। इसके अलावा यह भी सुनिश्चि़त कर लें। कि आपका पड़ोसी डिफरेंट चैनल पर सर्फिंग कर रहा हो।

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST