Skip to main content

क्या आत्माको बुलाने पर आती है? आत्मा को बुलाने के लिए लोग करते हैं इन 6 विधियों का इस्तेमाल

बहुत से लोग ऐसा मानते हैं कि भूत और आत्मा का कोई अस्तित्व नहीं होता. लेकिन आत्मा को गीता में नित्य और शाश्वत बताया गया है. अर्थात आत्मा कभी नहीं मरती है और वो एक शरीर को छोड़ कर नए शरीर में प्रवेश करती रहती है. सदियों से लोग आत्माओं से संपर्क करने की कोशिश करते आए हैं. तो आइये आत्माओं से संपर्क करने की पाश्चात्य विधियों के बारे में जानें.

1. टेबल से मिलता है आत्माओं के आने का संकेत 

भूत को बुलाने के लिए टेबल टर्निंग का तरीका पुराने तरीकों में से एक है. आपके पास दोस्तों की एक टीम होनी चाहिए. टेबल के चारों ओर बैठें. अपनी हथेलियों को टेबल पर रखें और उस व्यक्ति के बारे में सोचें जिसे आप देखना चाहते हैं. इसके थोड़े समय ही बाद टेबल पर कंपन होने लगेगा. इस तरीके में ऐसा स्थान चुनिए जो शांत हो.

2. भूतिया जगहें भी हैं आत्माओं से मिलने का एक ज़रिया 

भूत को बुलाने का दूसरा तरीका है कि भुतहा घर में जाएं. भुतहा घर के अंदर जाने के लिए आप में हिम्मत होनी बहुत आवश्यक है. आत्मा से मिलने के लिए पहले उन्हें आप तक पहुंचने दें. यदि आपको ऐसा महसूस होता है कि आपके शरीर को कुछ स्पर्श कर रहा है, आपको कोई प्रकाश दिखता है या फ़िर कोई आवाज़ सुनाई देती है तो उस पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करें. हो सकता है कि आप आत्माओं के संपर्क में आ जाएं.

3. भूतों को बुलाने का तीसरा तरीका है कि शीशे को घूरना 

सुबह 3 बजे उठें, हाथ में एक मोमबत्ती पकड़ें तथा दर्पण में घूरें. ऐसा करते समय आपको तीन बार बोलना है, ब्लड मैरी, ब्लड मैरी और ब्लड मैरी. कुछ ही समय में आप 'मैरी' का भूत देख पाएंगे. भूत बुलाने के इस तरीके में कुछ संकेत आते हैं जैसे लाइट का बंद होना या मोमबत्ती का बुझ जाना.

4. आत्मा के आते ही होने लगती है हलचल 

भूतों से बात करने का एक ज़रिया है प्लेनचिट और ओइजा बोर्ड. आत्मा से संपर्क करने से पहले मेज़ पर एक सादा कागज़ रख कर उसके ऊपर ओइजा बोर्ड को रखा जाता है. इसके बाद जिस व्यक्ति की आत्मा को बुलाना हो, उसका एकाग्रता से ध्यान किया जाता है. आत्मा जब आ जाती है तो ओइजा बोर्ड में हरकत होने लगती है. और उसमें लगी पेंसिल आत्मा से पूछे गए सवालों के जवाब कागज पर लिखने लगती है. इस तरह से ओइजा बोर्ड की मदद से प्रश्नकर्ता आत्माओं से अपने सवालों के जवाब जान लेता है.

5. गुड़िया बन जाती है आत्मा का शरीर 

'जेलंगकुंग' एक ऐसा तरीका है जिसका प्रयोग प्राचीन इंडोनेशिया के लोग आत्माओं से संपर्क करने के लिए करते थे. इस विधि के तहत आत्माओं से संपर्क करने के लिए तीन से पांच लोग एक कमरे में होते हैं. इनमें दो लोग बांस से बने एक पुतले को पकड़ कर बैठते हैं. 
आत्माओं को बुलाने से पहले धूप अगरबत्ती जलाई जाती है और कुछ मंत्र पढ़े जाते हैं. कहते हैं मंत्रों के प्रभाव से आस-पास से गुज़र रही आत्मा पुतले में चली आती है और पुतले का वज़न बढ़ जाता है. इंडोनेशिया के लोगों का मानना है कि ये तरीका आत्माओं से संपर्क करने के लिए खतरनाक भी हो सकता है क्योंकि अगर आप पुतले से आत्मा निकालने में कामयाब नहीं हुए तो नुकसान भी हो सकता है. इसलिए इस क्रिया में व्यक्ति का दक्ष होना ज़रूरी है.

6. जब जीवित इंसान में आ जाती है आत्मा 

आत्माओं से संपर्क करने के लिए किसी व्यक्ति को माध्यम बना कर उसमें आत्मा को बुलाया जाता है. कई हॉरर फिल्मों में आपने देखा भी होगा कि तांत्रिक आत्मा को बुलाता है और आत्मा किसी व्यक्ति के शरीर में आकर प्रश्नकर्ता के सवालों के जवाब देती है. इस विधि में आत्मा बोल कर या पेंसिल से लिख कर अपने जवाब देती है. लेकिन कई बार आत्मा शरीर से निकलना नहीं चाहती है. ऐसे में उस व्यक्ति को बेहद तकलीफ़ होती है जिसके शरीर में आत्मा प्रवेश कर चुकी होती है. इसलिए इस विधि द्वारा आत्मा से संपर्क करते समय किसी पैरानार्मल एक्सपर्ट का साथ होना ज़रूरी होता है.
Source: boldskyajabgjab

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST