Skip to main content

सोने-चांदी की कीमतों में भारी गिरावट

नई दिल्ली। विदेशों में कमजोरी के रूख के बीच कारोबारियों अपने सौदों के आकार को कम करने में लग गए जिससे वायदा करोबार में आज चांदी की कीमत 288 रपए की गिरावट के साथ 42,401 रुपए प्रति किलोग्राम रह गई। इसके अलावा मौजूदा स्तर पर सटोरियों की मुनाफावसूली के कारण भी चांदी कीमतें प्रभावित हुई।

एमसीएक्स में चांदी के जुलाई डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 288 रुपए अथवा 0.67 प्रतिशत की गिरावट के साथ 42,401 रुपए प्रति किलो ग्राम रह गई जिसमें 19 लॉट के लिए कारोबार हुआ। इसी प्रकार चांदी के मई डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 276 रुपए अथवा 0.65 प्रतिशत की गिरावट के साथ 41,911 रुपए प्रति किलो ग्राम रह गई जिसमें 912 लॉट के लिए कारोबार हुआ।
अंतरराष्ट्रीय बाजार सिंगापुर में आज चांदी की कीमत 0.38 प्रतिशत की गिरावट के साथ 18.18 डाॅलर प्रति औंस रह गई। बाजार सूत्रों वायदा कारोबार में चांदी कीमतों में गिरावट आने का कारण वैश्विक बाजारों में बहुमूल्य धातुओं की कीमतों में कमजोरी के रूख और सटोरियों की मुनाफावसूली को बताया।
वहीं, सटोरियों की मुनाफावसूली और कमजोर होते वैश्विक रूख के बीच वायदा कारोबार में आज सोने की कीमत 162 रूपए की गिरावट के साथ 29,353 रुपए प्रति 10 ग्राम रह गई। एमसीएक्स में सोने के जून डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 162 रुपए अथवा 0.55 प्रतिशत की गिरावट के साथ 29,352 रुपए प्रति 10 ग्राम रह गई जिसमें 1,048 लॉट के लिए कारोबार हुआ।
इसी तरह से सोने के अगस्त डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 151 रूपए अथवा 0.51 प्रतिशत की गिरावट के साथ 29,450 रूपए प्रति 10 ग्राम रह गई जिसमें 11 लॉट के लिए कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि सोना वायदा कीमतों में आई गिरावट, विदेशों में कमजोरी के रूख और मौजूदा स्तर पर सटोरियों की मुनाफावसूली के अनुरूप थी। वैश्विक स्तर पर सिंगापुर में सोने की कीमत 0.34 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1,284.80 डालर प्रति औंस रह गई।
संदर्भ पढ़ें

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST