Skip to main content

एयरकंडीशनर के नुकसान

Image result for acऑफिस में आप दिन के कई घंटे बिताते हैं। ऐसे में, लगातार एयरकंडीशन्ड (एसी) जगह पर बैठना भी स्वाभाविक है। एसी में बैठने के कुछ फायदे हैं तो नुकसान भी। लेकिन इसका उपाय यही है कि ऐसी परिस्थिति में भी खुद को फिट रखा जाए।





यह शोध अलबामा यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने किया है। वैसे देखा जाए तो एयर कंडीशनर का इस्तेमाल आपकी शीरीरिक और मानसिक क्षमताओं को बढ़ाता है; आपको आरामदायक माहौल देता है; आपको मौसम से होने वाली एलर्जी से बचाता है और एक बेहतर एयर कंडीशनर आपको फ्रेश हवा मुहैया कराता है। परन्तु यह खतरनाक भी है क्योंकि: 
  • एयर कंडीशनर के इस्तेमाल से मोटापा बढ़ता है। दरअसल, ठंडी जगह पर हमारे शरीर की ऊर्जा ज्यादा खर्च नहीं होती है। इससे चर्बी बढ़ती है।
  • लगातार एयर कंडीशन्ड स्थान में बैठे रहने से मांसपेशियों में खिंचाव आता है, जो सिरदर्द का एक बड़ा कारण है। लगातार एक ही तापमान में न बैठें।
  • ठंड का सीधा असर शरीर के जोड़ों पर होता है, जैसे घुटने, हाथ और गर्दन। लगातार इसी अवस्था में रहने से बड़ी बीमारी का खतरा भी हो सकता है।
  • एयर कंडीशनर फिल्टर के गंदे होने के चलते सांस की परेशानी भी हो सकती है। इससे गले में खराश और छींक की समस्या हो जाती है। ट्रैूवल करते वक्त ट्रैफिक जाम लगने पर एसी ऑन रहने से सांस लेने में दिक्कत होने लगती है, क्योंकि गाड़ी में माइक्रो जर्म्स होते हैं, जो सांस लेने में परेशानी पैदा करते हैं। इन सभी दिक्कतों की वजह से बुखार और न्यूमोनिया जैसी बीमारी होने की आशंका रहती है। कोशिश करें कि ऑफिस के एयर कंडीशनर फिल्टर की लगातार सर्विसिंग होती रहे। 
ऑफिस के अलावा घर में भी एसी से काफी दिक्कतें होती हैं, जो आपको बीमार कर देती हैं। एसी में ज़्यादा बैठने पर आपको किन दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है, हम आपको बता रहे हैं: 
  • बुखार और थकान महसूस होना: अगर आपको गर्मियों में भी हल्की ठंड महसूस होती है, तो आप सही में खुद को थका हुआ महसूस करने लगे हैं। एक स्टडी के अनुसार, ज़्यादा देर एसी में बैठने पर आपको सिर दर्द और थकान होने लगती है। जिन लोगों का ऑफिस बंद बिल्डिंग में होता है या पूरा ऑफिस ही एयर कंडीशन्ड होता है, उन्हें हर वक्त चिपचिपापन महसूस होता है और सांस लेने में दिक्कत होती है। इन सभी दिक्कतों की वजह से आपको जुकाम और फ्लू जैसी बीमारी हो सकती है। 

  • ड्राय स्किन: ज़्यादा समय तक एसी में बैठे रहने से स्किन ड्राय  हो जाती है। इसलिए 1-2 घंटे की बीच में मॉइश्चराइज़र लगाते रहें, ताकि स्किन ढीली न हो। 

  • बुखार और स्किन की दिक्कतों के अलावा: ब्लड प्रेशर, आर्थाराइटिस और न्यूराइटिस जैसी दिक्कतें होने लगती हैं। इसलिए इन दिक्कतों से बचने के लिए एसी का ज़्यादा यूज़ न करें। 

  • गर्मी सहन न होना: जिन लोगों को एसी में रहने की आदत पड़ जाती है, उनके लिए गर्मी या धूप सहना थोड़ा मुश्किल हो जाता है। दरअसल, ठंडे वातावरण में होने की वजह से आप जब गर्मी में जाते हैं तो बॉडी में स्ट्रेस बढ़ जाता है। एसी में रहने पर गर्मी सहन करने की क्षमता खत्म हो जाती है। इससे गर्मी सहन करने की क्षमता खत्म हो जाने के कारण हर साल लगभग 400 लोगों की डेथ हो जाती है।
सोर्स merahindiblog

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST