Skip to main content

CBSE ने नीट के लिए तैयार किया सख्त शेड्यूल, ये पहनकर नहीं दे सकेंगे एग्जाम

CBSE ने नीट के लिए तैयार किया सख्त शेड्यूल, ये पहनकर नहीं दे सकेंगे एग्जाम
मेडिकल दाखिलों की कॉमन प्रवेश परीक्षा नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (नीट) में इस साल ड्रेस कोड के अलावा सख्त नियम लागू किए गए हैं।

सात मई को देशभर में होने जा रही इस परीक्षा में कोई भी कैंडिडेट न तो साड़ी पहन सकती है और न ही मेंहदी लगा सकती है। कृपाण, बुर्का, ताबीज, ब्रेसलेट सभी पर सख्ती से रोक लगाई गई है।

सीबीएसई ने नीट एग्जाम की तैयारियों के मद्देनजर दिल्ली में सोमवार को अहम बैठक बुलाई। देर रात तक चली बैठक में तय कर दिया गया है कि जो भी कैंडिडेट ड्रेस कोड का पालन नहीं करेगा, उसे किसी भी कीमत पर एंट्री नहीं दी जाएगी।

यहां तक कि कैंडिडेट्स की एंट्री भी परीक्षा केंद्रों पर दो स्लॉट में होगी। अभ्यर्थियों के एडमिट कार्ड पर उनका एंट्री टाइम लिखा गया है। मेटल डिटेक्टर के अलावा देश भर में 100 से ज्यादा संवेदनशील परीक्षा केंद्रों पर जैमर लगाए जा रहे हैं। सीबीएसई के क्षेत्रीय अधिकारी रणबीर सिंह ने बताया कि नीट में ड्रेस कोड पर खास फोकस किया गया है।
 

उन्होंने बताया कि पर्स, एटीएम कार्ड, लॉकेट, जूते, फुल स्लीव्स की शर्ट, घड़ी, सन ग्लास, हेयर क्लिप, रबर बैंड, चूड़ी आदि कुछ भी लेकर परीक्षा हॉल में एंट्री नहीं दी जाएगी। इसके अलावा हाथों पर कलर या मेंहदी लगाना भी एग्जाम से बाहर बैठा सकता है।

नीट में यह पहनने की छूट
हवाई चप्पल या सैंडल, हाफ टी-शर्ट या शर्ट, ट्राउजर, लैगिंस, लॉवर, प्लाजो, सलवार, हाफ स्लीव्स कुर्ती, टॉप, मंगल सूत्र। खास बात यह है कि अभ्यर्थियों को केवल हल्के रंग के लूज कपड़े ही पहनने की इजाजत है। शर्ट या टी-शर्ट में बटन का साइज छोटा होना चाहिए।

सीबीएसई देगा पेन, कहीं और न मिलेगा
नीट एग्जाम के लिए सीबीएसई ने इस बार खास पेन तैयार करवाया है। एग्जाम सेंटर में एंट्री करने के बाद एडमिट कार्ड दिखाने पर यह पेन दिया जाएगा। बोर्ड अधिकारियों के मुताबिक यह पेन केवल नीट के लिए तैयार कराया गया है। लिहाजा, कहीं और बाजार से इस तरह का पेन नहीं मिलेगा।
READ SOURCE

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है? सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केम

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST