Skip to main content

NEET 2017: एग्‍जाम से पहले जान लें ये नियम, नहीं तो होगी भारी परेशानी

Image result for नीट २०१७
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) द्वारा मेडिकल और डेंटल कोर्स में दाखिले के लिए आयोजित की जाने वाली प्रवेश परीक्षा नीट 2017 के लिए स्टूडेंट्स की तैयारी आखिरी चरण में है. परीक्षा का आयोजन 7 मई 2017 को देश के 103 केंद्रों पर किया जाएगा. सीबीएसई ने कदाचार मुक्‍त परीक्षा के आयोजन के लिए कई नियम बनाए है, जिनकी जानकारी के बिना स्‍टूडेंट्स को परेशानी का सामना करना पड़ता है.

एडमिट कार्ड और फोटो ले जाना है अनिवार्य

स्टूडेंट्स को एग्‍जाम सेंटर पर एडमिट कार्ड, सीबीएसई की ओर से जारी किए गए प्रारूप पर पोस्टकार्ड साइज की फोटो लगाकर और एक पासपोर्ट साइज की फोटो लेकर जाना अनिवार्य है. स्‍टूडेंट् इसके अलावा कोई भी सामग्री सेंटर पर नहीं ले जा सकते.



ड्रेस कोड का रखें खास ख्‍याल
नीट की परीक्षा के लिए सीबीएसई की ओर से ड्रेस कोड के अलावा कई सख्त नियम बनाए गए हैं। परीक्षा में गर्ल्‍स स्‍टूडेंट के लिए साड़ी पहनने के साथ-साथ मेहंदी लगाने पर भी रोक है. सीबीएसई के नियम के अनुसार जो भी स्‍टूडेंट इनका पालन नहीं करेंगे उन्‍हें एग्‍जाम सेंटर में एंट्री नहीं मिलेगी.

इन चीजों के साथ भी नहीं होगी एंट्री
नीट के एग्‍जाम सेंटर पर बुर्का, ताबीज, ब्रेसलेट और कृपाण भी अपने पास रखने पर रोक है. इसके अलावा स्‍टेडेंट अगर पर्स, एटीएम कार्ड, लॉकेट, जूते, फुल स्लीव्स की शर्ट, घड़ी, धूप वाले चश्में, हेयर क्लिप, रबर बैंड, चूड़ी आदि कुछ भी लेकर परीक्षा हॉल में एंट्री की कोशिश करते हैं तो उन्‍हें रोक दिया जाएगा.



एग्‍जाम हॉल में ले जा सकते हैं ये चीजें
नीट के एग्‍जाम सेंटर पर कुछ चीजे ले जाने की छूट दी गई है. इसमें महिलाओं के लिए मंगल सूत्र भी शामिल है. यानि शादीशुदा महिलाएं अगर एग्‍जाम सेंटर पर मंगलसूत्र पहनकर जाती हैं तो उन्‍हें नहीं रोका जाएगा. स्‍टूडेंट हवाई चप्पल या सैंडल, हाफ टी-शर्ट या शर्ट, ट्राउजर, लैगिंस, लोवर, प्लाजो, सलवार, हाफ स्लीव्स कुर्ती, टॉप पहनकर एग्‍जाम देने जा सकते हैं.

नीट के लिए तैयार कराया है खास पेन
स्‍टूडेंट्स को परीक्षा केंद्र पर पेन ले जाने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि यह एग्‍जाम हॉल में बोर्ड द्वारा दिया जाएगा. बताया जा रहा है कि नीट एग्‍जाम के लिए सीबीएसई ने एक खास तरह का पेन तैयार करवाया है, जो बाजार में नहीं मिलेगा. स्‍टूडेंट्स को एग्‍जाम सेंटर में एंट्री के बाद एडमिट कार्ड दिखाने के बाद ही यह पेन दिया जाएगा.

इन 10 भाषाओं में होगा नीट का आयोजन
इस साल इंग्‍लिश के अलावा नीट एग्‍जाम का आयोजन अन्‍य नौ भारतीय भाषाओं में किया जाएगा. इनमें हिंदी, अंग्रेजी, असमी, बांग्ला, गुजराती, मराठी, कन्‍न्‍ड़, ओड़िया, तमिल और तेलुगू शामिल है.



इस बार 41 प्रतिशत अधिक छात्र होंगे शामिल
इस साल प्रवेश परीक्षा के लिए 11.35 लाख अभ्यर्थियों ने पंजीकरण कराया है, जो पिछले साल के मुकाबले 41 प्रतिशत अधिक है. साल 2016 में 8.02 लाख से अधिक अभ्यर्थियों ने प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन किया था.

मेडिकल में एडमिशन के लिए होता है नीट का आयोजन
नीट का आयोजन मेडिकल और डेंटल कॉलेज में एमबीबीएस और बीडीएस कोर्सेस में प्रवेश के लिए किया जाता है. इस परीक्षा के द्वारा उन कॉलेजों में प्रवेश मिलता है, जो मेडिकल कांउसिल ऑफ इंडिया और डेटल कांउसिल ऑफ इंडिया के द्वारा संचालित किया जाता है.

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST