Skip to main content

जानिए स्मार्ट सिटी के लिए 30 नए शहरों का चयन, यूपी-गुजरात के 3-3 शहर सामेल

देश के शहरों को स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित करने के लिए सरकार ने एक और कदम बढ़ा दिया है। भारत सरकार के शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने 30 और शहरों को स्मार्ट सिटी के तौर पर विकसित करने की घोषणा कर दी है। इन 30 शहरों का चयन प्रतिस्पर्धा के आधार पर किया गया है।


 इस तीसरी लिस्ट के साथ ही स्मार्ट सिटी की लिस्ट में अब तक देश के 90 शहरों का नाम शामिल हो गया है। केंद्रीय शहरी एवं विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने इस लिस्ट को जारी करते हुए कहा कि तीसरी लिस्ट में राजकोट, तिरुवनंतपुरम, अमरावती, पटना और श्रीनगर को भी शामिल किया गया है। इनमें तिरुवनन्तपुरम पहले और नया रायपुर दूसरे नंबर पर है।

thirty new smart cities selected under 3rd round of smart city mission - Delhi News in Hindi
इस मौके पर वेंकैया नायडू ने कहा कि इस प्रतियोगिता में कुल 45 शहरों ने हिस्सा लिया था, जिनमें से सिर्फ 30 को प्रतिस्पर्धा के आधार पर चुना गया है। इन शहरों में कुल 57,393 करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा और स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित किया जाएगा। इस लिस्ट के साथ ही कुल स्मार्ट सिटी की संख्या 90 पहुंच गई है, जिन पर कुल 1,91,155 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।

इस सूची में उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद, अलीगढ़ और झांसी को, वहीं गुजरात के राजकोट, गांधीनगर और दाहोद को सरकार ने स्मार्ट सिटी के लिए चुना है। वहीं कांग्रेस अध्यक्ष के संसदीय क्षेत्र रायबरेली का चयन स्मार्ट सिटी के तौर पर नहीं किया गया है।

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है? सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केम

18 अनसुनी बाते ताजमहल की! यह बाते आपने कही नहीं सुनी होगी!!!

ताजमहल सिर्फ़ प्यार की निशानी ही नहीं हैं, बल्कि इसका नाम दुनिया के सात अजूबों में भी शुमार किया जाता है. इस खूबसूरत और प्यार की कहानी बयां करने वाली इमारत को किसने किस लिए बनवाया हम सब जानते हैं पर इसके बावजूद बहुत सी ऐसी बातें भी है जिन्हें हम नहीं जानते. हम आज आपको ताजमहल के उन्हीं रहस्यों के बारे में बता रहे हैं, जो इस खूबसूरत इमारत की चकाचौंध में नहीं दिखाई पड़ते. 1. मुमताज़ के मकबरे की छत पर एक छेद मकबरे की छत की छेद से टपकते पानी की बूंद के पीछे कई कहानियां प्रचलित है, जिसमें से एक यह है कि जब शाहजहां ने सभी मज़दूरों के हाथ काट दिए जाने की घोषणा की ताकि वे कोई और ऐसी खूबसूरत इमारत न बना सके तो मजदूरों ने ताजमहल को पूरा के बावजूद इसमें एक ऐसी कमी छोड़ दी जिससे शाहजहां का खूबसूरत सपना पूरा न हो सके. Source:  wallpaperup 2. ताजमहल के चारों ओर बांस का घेरा द्वितीय विश्व युद्ध, 1971 भारत-पाक युद्ध और 9/11 के बाद इस भव्य इमारत की सुरक्षा के लिए ASI ने ताजमहल के चारों और बांस का सुरक्षा घेरा बना कर उसे हरे रंग की चादर से ढक दिया था, जिससे ताजमहल दुश्मनों को नज़र न आये और इसे किसी प्रकार की