Skip to main content

जरुर जानिए अब ट्रेन में मिलेगा हाईस्पीड इंटरनेट, रेलवे बना रहा है नया कम्युनिकेशन कॉरिडोर

Image result for ट्रेन में मिलेगा हाईस्पीड इंटरनेटरेलवे के पैसेंजर्स जल्द ही सफर के दौरान हाईस्पीड इंटरनेट, ऑन डिमांड वीडियो या दूसरे ऑनलाइन इंटरटेनमेंट का लुत्फ ले सकेंगे। ट्रेन की मॉनिटरिंग और पैसेंजर्स के आरामदायक सफर के लिए रेलवे हाईस्पीड मोबाइल कम्युनिकेशन कॉरिडोर तैयार कर रहा है।
डिपार्टमेंट को उम्मीद है कि इससे ट्रेन ऑपरेशन में भी सुधार होगा। रेल मंत्रालय के मुताबिक, मेन रूट्स पर 2541 किलोमीटर में नए कम्युनिकेशन सिस्टम ने काम शुरू कर दिया है। जबकि 3408 किलोमीटर रूट पर इसका काम तेजी से चल रहा है। 5 हजार करोड़ से डेवलप हो रहा कॉरिडोर...

 एक सीनियर रेलवे अफसर ने बताया कि इस सिस्टम से रेलवे के कर्मचारी (गैंगमेन) लोको पायलट और स्टेशन मास्टर को ट्रैक के हालात की सीधी जानकारी दे सकेंगे। इससे ट्रेन ऑपरेशन में सुधार होगा।
- कम्युनिकेशन कॉरिडोर बनाने के लिए रेल मंत्रालय ने एक कंपनी को जिम्मा सौंपा है। यह कॉरिडोर 5000 करोड़ की लागत से पीपीपी मॉडल के तहत डेवलप किया जा रहा है।
फिलहाल क्या इंतजाम है?


- ट्रेन ऑपरेशन के लिए रेलवे फिलहाल वायरलेस सिस्टम का इस्तेमाल करता है। GSM-R नेटवर्क के जरिए ड्राइवर और कंट्रोलर किसी ट्रेन का रूट तय करते हैं।
- रेलवे के सिग्नल और टेलिकॉम विंग के अफसर ने बताया कि अब GSM-R (ग्लोबल सिस्टम फॉर मोबाइल कम्युनिकेशन-रेलवेज) की जगह LTE-R (लॉन्ग टर्म इवोल्यूशन-रेलवेज) सिस्टम लगाया जा रहा है।

इससे और क्या फायदा होगा?

- हाईस्पीड कॉरिडोर से अगल-अलग रूट की ट्रेनों के ऑपरेशन में सेफ्टी और मैनेजमेंट के अलावा पैसेंजर्स को ब्रॉडबैंड सर्विस भी मिलेगी। 
- पैसेंजर्स आजकल हर वक्त इंटरनेट कनेक्टिविटी चाहते हैं। चाहे वो ट्रेन में हों या स्टेशन पर। यह सिस्टम रेलवे के साथ पैसेंजर्स की जरूरतों को पूरा करेगा। 
- नया सिस्टम आने वाले वक्त में मोबाइल ट्रेन रेडियो कम्युनिकेशन में कंट्रोल ऑफिस और ट्रेन के क्रू के साथ बेहतर कम्युनिकेशन बनाने में मददगार होगा। 
- इससे पैसेंजर्स को रियल टाइम मल्टीमीडिया इन्फॉर्मेशन मिलेंगी और वे सफर के दौरान हर वक्त सोशल नेटवर्क के साथ भी जुड़े रहेंगे।

स्टेशनों पर मिलता है इंटरनेट

-पिछले साल देश के बड़े स्टेशनों पर फ्री इंटरनेट फैसिलिटी की शुरूआत हुई थी। भारत दौरे पर आए गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने इसका एलान किया था।
- हाल ही में शुरू हुई तेजस एक्सप्रेस समेत देश की कुछ ट्रेनों में पैसेंजर्स के लिए वाईफाई फैसिलिटी है।

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है? सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केम

18 अनसुनी बाते ताजमहल की! यह बाते आपने कही नहीं सुनी होगी!!!

ताजमहल सिर्फ़ प्यार की निशानी ही नहीं हैं, बल्कि इसका नाम दुनिया के सात अजूबों में भी शुमार किया जाता है. इस खूबसूरत और प्यार की कहानी बयां करने वाली इमारत को किसने किस लिए बनवाया हम सब जानते हैं पर इसके बावजूद बहुत सी ऐसी बातें भी है जिन्हें हम नहीं जानते. हम आज आपको ताजमहल के उन्हीं रहस्यों के बारे में बता रहे हैं, जो इस खूबसूरत इमारत की चकाचौंध में नहीं दिखाई पड़ते. 1. मुमताज़ के मकबरे की छत पर एक छेद मकबरे की छत की छेद से टपकते पानी की बूंद के पीछे कई कहानियां प्रचलित है, जिसमें से एक यह है कि जब शाहजहां ने सभी मज़दूरों के हाथ काट दिए जाने की घोषणा की ताकि वे कोई और ऐसी खूबसूरत इमारत न बना सके तो मजदूरों ने ताजमहल को पूरा के बावजूद इसमें एक ऐसी कमी छोड़ दी जिससे शाहजहां का खूबसूरत सपना पूरा न हो सके. Source:  wallpaperup 2. ताजमहल के चारों ओर बांस का घेरा द्वितीय विश्व युद्ध, 1971 भारत-पाक युद्ध और 9/11 के बाद इस भव्य इमारत की सुरक्षा के लिए ASI ने ताजमहल के चारों और बांस का सुरक्षा घेरा बना कर उसे हरे रंग की चादर से ढक दिया था, जिससे ताजमहल दुश्मनों को नज़र न आये और इसे किसी प्रकार की