Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2017

ईमेल से नहीं भेज पा रहे हैं बड़ी फाइलें तो अपनाये ये आसान तरीके

जीमेल पर 25 एमबी से बड़ी फाइल भेजने के लिए गूगल ड्राइव का इस्तेमाल करना पड़ता है। यहां बड़ी फाइलें अपलोड करने में एक घंटे तक का समय लग सकता है। अगर आप अपने दोस्तों को बेहद आसानी से बड़ी फाइलें भेजना चाहते हैं तो इसके लिए इंटरनेट पर कई वेबसाइट मौजूद हैं। इन साइटों के जरिए कई जीबी की फाइल मिनटों में भेजी जा सकती है।  70 सेकेंड में अपलोड होगी एक जीबी की फाइल  इंटरनेट पर मौजूद कुछ वेबसाइट जीमेल और याहू के मुकाबले कई गुना तेजी से फाइल अपलोड करती हैं। फाइलमेल डॉट कॉम के जरिए 15 एमबी साइज की फाइल को एक सेकेंड में अपलोड किया जा सकता है। यानि डेढ़ घंटे की औसत क्वालिटी की फिल्म को अपलोड करने में सिर्फ 50 सेकेंड का समय लगेगा। एक जीबी की फाइल को लगभग 70 सेकेंड में अपलोड किया जा सकता है। ‘प्लस ट्रांसफर’ वेबसाइट पर बिना अकाउंट बनाए 21 जीबी की फाइल भेज सकते हैं। इसी तरह फाइल्सटूफ्रेंड्स नाम की वेबसाइट से पांच जीबी की फाइल भेजी जा सकती है।  डाउनलोड लिंक भेजती हैं साइट ये वेबसाइट दूसरे व्यक्ति तक फाइल पहुंचाने के लिए क्लाउड सेवा का इस्तेमाल करती हैं। एक बार फाइल अपलोड होने के बाद इन साइट के क्लाउड सर्वर में

अब आसानी से अपने फोन को बनाएं कंप्यूटर का माउस और कीबोर्ड जानिए केसे

कंप्यूटर के बहुत से काम स्मार्टफोन पर किए जा सकते हैं मगर क्या आपको पता है कि एक एप की मदद से फोन को कंप्यूटर का माउस और कीबोर्ड भी बनाया जा सकता है। स्मार्टफोन यूजर ‘रिमोट माउस’ एप से अपने फोन को कीबोर्ड और माउस के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं।  इसे ट्रैकपैड के तौर पर ही उपयोग किया जाता है। जबकि माउस के लिए किसी भी आकार का स्मार्टफोन इस्तेमाल कर सकते हैं और कीबोर्ड के लिए बड़ी स्क्रीन वाला फोन या टैब ही इस्तेमाल करना फायदेमंद रहता है। स्मार्टफोन के टेक्स्ट टच का इस्तेमाल करते हुए। इसको गूगल प्ले स्टोर से मुफ्त  में डाउनलोड किया जा सकता है। ऐसे करें डाउनलोड ‘रिमोट माउस’ नाम के इस एप को गूगल प्लेस्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं। नाम पर संदेह होने पर आप इसकी वेबसाइट (http://www.remotemouse.net/) पर भी जा सकते हैं।  इसकी वेबसाइट पर एप्लीकेशन डाउनलोड करने का विकल्प है। मोबाइल और कंप्यूटर पर दोनों के लिए अलग-अलग एप को डाउनलोड करना होगा। इसके अलावा एपल यूजर के लिए कंपनी वॉयस टाइपिंग का फीचर भी देती है। इस एप को बनाने वाली कंपनी ने इस बात की जानकारी नहीं दी है कि वह मोबाइल और कंप्यूटर को जोड़ने के ल

लो आ गया नया फीचर अब आप व्हाट्स एप में भी देख सकेंगे यूट्यूब वीडियो

व्हाट्सएप के उपयोक्ता जल्द ही एप में यूट्यूब वीडियो देखने का लुत्फ उठा सकेंगे। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक व्हाट्सएप में एक नया फीचर नजर आया है जिसके जरिए इसके उपयोक्ता ऐप में ही किसी यूट्यूब वीडियो लिंक को चालू कर सकेंगे।  वीडियो को पिक्चर-इन-पिक्चर या पूरे स्क्रीन पर देखा जा सकता है। फिलहाल व्हाट्सएप इन-एप यूट्यूब वीडियो को प्लेबैक करने की सहूलियत नहीं देता। ‘डब्ल्यूएबीटाइन्फो’ ने व्हाट्सएप के आईओएस बीटा एप के 2.17.40 संस्करण पर एक नया फीचर देखा। चर्चा है कि व्हाट्सएप आईओएस एप में नए यूट्यूब प्लेबैक फीचर का परीक्षण कर रहा है।। नए फीचर के साथ व्हाट्सऐप पर किसी चैट में भेजे गए यूट्यूब लिंक को उसी चैट विंडो में चालू करना संभव होगा। इसका मतलब हुआ कि अब यूट्यूब एप में लिंक खोलने की जरूरत नहीं होगी। व्हाट्सऐप उपयोक्ता विंडो को रीसाइज कर सकेंगे। एक अलग पूरे स्क्रीन पर भी वीडियो खोलने की सुविधा होगी। अगर उपयोक्ता उसी चैट विंडो में दूसरे संदेश देखना चाहेंगे तो स्क्रीन को साइड कर सकते हैं। व्हाट्सएप उपयोक्ता द्वारा किसी और चैट या ऐप में स्विच करने पर यूट्यूब वीडियो का प्रदर्शन रुक जाएगा। यह फी

जाने अपने मोबाइल में भूल से भी न रखें ये चीजें

हम जाने-अनजाने कुछ बेइंतहा जरूरी चीजों को अपने स्मार्टफोन में सेव कर लेते है, लेकिन इन चीजों का आपके स्मार्टफोन में होना आपकी प्राइवेसी के लिए खतरा हो सकता है। बताते हैं कैसे: 1 .लोग किसी जरूरी काम के लिए अपने क्रेडिट कार्ड की फोटो को दोनों साइडों से खींच कर फोन में सेव कर लेते है। दोनों साइड की फोटो लेने से कार्ड की सारी डिटेल्स मसलन एक्सपायरी डेट, सीवीवी नंबर जैसी जानकारियां फोन में सेव हो जाती है और फोन हैक या चोरी होने की दशा में कोई भी इनका गलत इस्तेमाल कर सकता है। 2 .अगर आपको पासवर्ड याद रखने में परेशानी होती है और उन्हें भी आप मोबाइल में सेव कर लेते है तो यह महंगा पड़ सकता है क्योंकि टेक्नोलॉजी की थोड़ी भी परख रखने वाला आसानी से समझ लेगा कि यह आपका पासवर्ड है खासकर फोन चोरी होने की दशा में। 3 .अक्सर देखा गया है लोग अपने आधार नंबर, पैन नंबर या फिर बैंक अकाउंट नंबर इत्यादि को अपने स्मार्टफोन में सेव करके रखते है ताकि वक्त पड़ने पर उन्हें परेशानी न हो लेकिन ऐसा करना आपके लिए खतरनाक हो सकता है, इसलिए भूलकर भी इन नंबरों को अपने फोन में सेव न करें। परेशानी अगर याद करने की है तो इन नबं

आपके गैजेट्स इन सस्ते उपायों से रहेंगे हमेशा साफ जानिए यहाँ

मल्टीमीडिया डेस्क। पूरा दिन आप अपने स्मार्टफोन, कंप्यूटर या टीवी का यूज करते हैं। आपका दिनभर साथ देने वाले ये गैजेट्स या कहें कि आपकी दिनचर्या का अंग बनें, इन इलेक्ट्रोनिक आइटम्स का साफ रहना भी निहायत जरूरी है। आज हर दूसरा व्यक्ति अपने फोन या लैपटॉप पर finger Print, dust जमने से परेशान हैं।  आप बार-बार तो इन्हें साफ कर नहीं  कर सकते और साधारण कपड़े से भी यह पूरी तरह साफ नहीं हो पाते, नतीजा इनकी परफॉर्मेंस पर असर पड़ता है और यह ठीक प्रकार से काम करने में असमर्थ हो जाते हैं। ऐसे में जरूरत है  कुछ ऐसे सस्ते और टिकाऊ तरीकों की, जिनके प्रयोग से आपके गैजेट्स हमेशा साफ और सुरक्षित रहें। सफाई का नया तरीका- Cyber Clean  कंप्यूटर का कीबोर्ड या मोबाइल का कीपैड दोनों को साफ रखना खासा सिर दर्द वाला काम है, लेकिन अब आपकी यह परेशानी Cyber Clean से आसानी से दूर हो सकती है। Cyber Clean से आप कीबोर्ड और मोबाइल कीपैड को अच्छी तरह साफ कर सकते हैं। यह लगभग 99.9% नुकसानदायक किटाणुओं का खात्मा कर सकता हैं। सफाई के लिए यह एक unique compound design है। जेली की तरह लगने वाले इस मटीरिअल का एक पैकेट 300 रुपये की