Skip to main content

APPSC भर्ती: सरकारी नौकरी पाने सुनहरा मौका, जानें आवेदन की पूरी प्रक्रिया



APPSC भर्ती 2018:
अरुणाचल प्रदेश लोक सेवा आयोग ने सहायक प्रोफेसर पद के लिए भर्ती निकाली है। योग्य अभ्यार्थियों के पास सरकारी नौकरी पाने का सुनहरा मौका है। यह भर्ती 19 पदों पर होनी है।
इस भर्ती के लिए अरुणाचल प्रदेश लोक सेवा आयोग ने नोटिफिकेशन जारी किया है। अगर आप भी आवेदन करना चाहते हैं तो इन पदों के लिए आवेदन करने की पूरी प्रक्रिया के लिए नीचे दी गई जानकारी अवश्य पढ़ें।

APPSC भर्ती 2018 के पदों की संख्या

  • विभाग - अरुणाचल प्रदेश लोक सेवा आयोग
  • पद का नाम - सहायक प्रोफेसर
  • कुल पदों की संख्या - 19
  • वेतन - 15,600 रुपए से 39,100 प्रति महीना
  • बेसिक सैलरी - 6,000 रुपए

APPSC भर्ती 2018 के लिए न्यूनतम योग्यता

  • शैक्षणिक योग्यता - अभ्यार्थी को किसी मान्यता प्राप्त कॉलेज या यूनिवर्सिटी से एलएलएम की डिग्री होनी चाहिए।
  • राष्ट्रीयता - भारतीय
  • आयु सीमा - अभ्यार्थी की अधिकतम आयु 30 साल है।
  • चयन प्रक्रिया - अभ्यार्थियों का चयन लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के आधार पर किया जाएगा।
  • नियुक्ति स्थान - अरुणाचल प्रदेश
यह भी पढ़ें: बड़ी खबर: रेलवे बोर्ड ने भर्ती प्रक्रिया के लिए बदला नियम, अब ऐसे मिलेगी नौकरी

APPSC भर्ती के लिए आवेदन इस तरह से करें

  • योग्य अभ्यार्थी APPSC भर्ती 2018 के लिए वेबसाइट www.psc.ap.gov.in पर जाकर विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
  • पता - Arunachal Pradesh Public Service Commission, Itanagar-791111
  • आवेदन पत्र को भर कर जरुरी दस्तावेजों के साथ दिए हुए पतें पर भेजें।

महत्वपूर्ण तिथियां

  • आवेदन करने की प्रारंभिक तिथि - 30 दिसंबर 2017
  • आवेदन करने की अंतिम तिथि - 31 जनवरी 2018

महत्वपूर्ण लिंक

नोट - इच्छुक अभ्यर्थी आवेदन करने से पहले पूरा नोटिफिकेशन अवश्य पढ़ लें।
संदर्भ पढ़ें

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है? सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केम

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST