Skip to main content

सोने के दाम में बंपर गिरावट, देखें 10 ग्राम सोने का भाव

सोने के दाम में बंपर गिरावट, देखें 10 ग्राम सोने का भाव

सोने-चांदी के दाम में बुधवार को एक बार फिर गिरावट देखी गई है। भारत में सोने के दाम हर शहर में अलग-अलग होते हैं इसलिए यहां पर हम आपको हर बड़े शहर में सोने और चांदी के दाम के बारे में बताएंगे। नई दिल्ली में सोने के दाम में 100 रुपए की गिरावट देखी गई है। दिल्ली में 22 कैरेट सोने का दाम 29 हजार 550 रुपए प्रति 10 ग्राम है, वहीं 24 कैरेट सोने का दाम 31 हजार 600 रुपए प्रति 10 ग्राम है।

ये है दामों का उतार-चढ़ाव
दिन स्टैंडर्ड जेवर चांदी पक्की
21 सितंबर 30250 28500 40600
20 मार्च 31350 29500 39300
(नोट: सोने के दाम प्रति दस ग्राम और चांदी प्रति किलो रुपए में)
विदेशी बाजारों में दोनों कीमती धातुओं में रही गिरावट के बीच जेवराती मांग रहने से मंगलवार को सर्राफा बाजार में सोना रुपए की मामूली बढ़त के साथ 31,००० रुपए प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया। औद्योगिक मांग निकलने से चांदी भी 200 रुपए की तेजी में 39,150 रुपए प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई।
अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सोना हाजिर 2.45 डॉलर घटकर 1,314.25 डॉलर प्रति औंस पर आ गया। अप्रैल का अमरीकी सोना वायदा भी 3.5 डॉलर प्रति औंस फिसलकर 1,314.30 डॉलर प्रति औंस बोला गया। कारोबारियों का कहना है कि दुनिया की अन्य प्रमुख मुद्राओं के बास्केट में डॉलर के कमजोर पडऩे से सोने की गिरावट सीमित रही है। साथ ही आने वाले दिनों में गिरावट देखने को भी मिल सकती है।

इंपोर्ट ड्यूटी घटाने की मांग

हाल ही में सोने पर इंपोर्ट ड्यूटी घटाने की मांग की गई थी, जिससे देश में सोने के दाम में कमी आ सके। नीति आयोग समेत कई संस्थानों ने सरकार से सोने पर इंपोर्ट ड्यूटी को घटाने का आग्रह किया था। सोने पर 10 फीसदी इंपोर्ट ड्यूटी लगती है।

चेक करें सोना असली या नकली

सोने के गहने खरीदने से पहले आप उस पर बीआईएस हॉलमार्क जरूर देखें। बीआईएस हॉल मार्क ये दर्शाता है कि सोना शुद्ध है। इसके साथ आपको ये भी ध्यान रखना होगा कि बीआईएस हॉल मार्क असली है या नहीं। बीआईएस हॉल मार्क का निशान हर गहने पर होता है और उसके साथ एक त्रिकोण निशान भी होता है। इसके साथ ही भारतीय मानक ब्यूरो के निशान के साथ सोने की शुद्धता भी लिखी होती है। इस तरीके से आप सोने की पहचान कर सकते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है? सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केम

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST