Skip to main content

क्या आपका आधार कार्ड पैन से लिंक हुआ? इन 2 आसान तरीकों से करें चेक



नई दिल्ली। पैन कार्ड को आधार से लिंक कराने का इस महीने आपके पास आखिरी मौका है क्योंकि इस महीने की आखिरी तारीख, 31 मार्च को पैन और आधार कार्ड को लिंक कराने की सरकार ने आखिरी तारीख तय की है। यदि आपने अभी तक पैन को आधार से लिंक नहीं कराया है या फिर ये जानना चाहते है कि आपका पैन सही में आधार से लिंक हुआ है तो नहीं, तो इसके लिए इन 2 आसान तरीकों को अपनाएं।

आयकर विभाग की वेबसाइट पर जाकर करें चेक

इसके लिए आपको सबसे पहले आयकर विभाग की वेबसाइट incometaxindiaefiling.gov.in को खोलना होगा। वेबसाइट खोलते ही आपको 'Link Aadhaar' का ऑप्शन दिखेगा। इस ऑप्शन पर क्लिक करते ही एक नया पेज खुलेगा जिसमें आपको अपनी जरूरी सूचनाएं। यहीं पर आपको एक पैन नंबर और धाधार नंबर भरने का कॉलम दिखेगा। इन दोनों कॉलम में नंबर भरने के बाद अगर आपका पैन और आधार लिंक होगा तो आपको लॉगइन के लिए कहा जाएगा।

अगर पैन-आधार नहीं लिंक है तो?

अगर आप का पैन और आधार कार्ड नहीं लिंक है तो दोनों ही कॉलम भरने के बाद आपको एक मैसेज आएगा। इस मैसेज पर क्लिक करते ही एक नया पे खुलेगा जहां आप अपना आधार और पैन नंबर भरकर दोनों को आसानी से लिंक करा सकते हैं। अगर आपको ऑनलाइन लिंक कराने में कोई समस्या आ रही है तो मैसेज भेजकर भी लिंक करा सकते हैं।

SMS से कराएं पैन-आधार लिंक

आयकर विभाग ने मैसेज के जरिए भी आधार और पैन लिंक कराने की सुविधा दे रखी है। इसके लिए आपको एक आपको तय फार्मेट में एसएमएस लिखकर 567678 या 56161 पर मैसेज करना होगा। ये तय फार्मेट है-
UIDPAN<12 digit Aadhaar><10 digit PAN>
READ SOURCE

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है? सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केम

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST