Skip to main content

42 रुपए का फार्म भरने पर हर महीने 5 हजार रुपए देगी मोदी सरकार, सीधे अकाउंट में आएगा पैसा

42 रुपए का फार्म भरने पर हर महीने 5 हजार रुपए देगी मोदी सरकार, सीधे अकाउंट में आएगा पैसा

New Delhi : अगर आप असंगठित क्षेत्र में कार्यरत हैं तो आपको भी अपने भविष्य को लेकर चिंताएं सताती होंगी। ऐसे में वृद्धावस्था की चिंताओं के मद्देनजर केंद्र सरकार की अटल पेंशन योजना आपका सहारा बन सकती है।
खासकर प्राइवेट क्षेत्र में काम कर रहे लोगों के लिए यह एक बेहद खास योजना है। अटल पेंशन योजना में न केवल आप कम राशि जमा करवाकर हर महीने ज्यादा पेंशन के हकदार बन सकते हैं, बल्कि असामयिक मृत्यु की दशा में अपने परिवार को भी इसका फायदा दिलवा सकते हैं। हम अपनी इस खबर के माध्यम से आपको इससे जुड़ी हर छोटी बड़ी बात बताएंगे।
कब हुई लॉन्च: यह योजना 9 मई 2015 को लॉन्च की गई थी। आप बैंक से फॉर्म लेकर या फिर वेबसाइट से फॉर्म डाउनलोड करके इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
क्या था योजना का मकसद: बुढ़ापे में व्यक्ति को सहारा देने लिहाज से यह एक खास योजना है। इस पेंशन फंड को इंश्योरेंस रेग्युलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी चलाती है। आप वृद्धावस्था के दौरान अपने सहारे के लिए इस योजना का चयन कर सकते हैं।
क्या हैं योजना के फायदे:
यह असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले 18 से 40 वर्ष की उम्र के लोगों के लिए है। यह सुविधा उन लोगों के लिए है जो आयकर का भुगतान नहीं करते हैं और जिनका ईपीएफ और ईपीएस अकाउंट खाता नहीं है।
इसके तहत आप 60 वर्ष की उम्र में पेंशन के हकदार होंगे। इस योजना में 1000 रुपए से 5000 रुपए तक की पेंशन मिलेगी।
अगर आप अटल पेंशन योजना के अंतर्गत 42 रुपए मासिक की राशि जमा करवाते हैं तो आपको 60 वर्ष की उम्र के बाद 1000 रुपए की मासिक पेंशन मिलेगी। वहीं 210 रुपए हर महीने जमा कराने वाले को 60 वर्ष का होने पर 5000 रुपए की पेंशन मिलेगी। योगदान राशि बैंक अकाउंट से ऑटो डेबिट हो जाएगी। 31 मार्च 2016 तक जो भी लोग इस योजना का हिस्सा बन चुके हैं उनके पहले 5 बरसों में जमा होने वाली रकम का 50 फीसद का योगदान सरकार देगी।
60 वर्ष के बाद अगर अकाउंट होल्डर की मौत हो जाती है तो पेंशन की रकम उसके जीवनसाथी को दे दी जाएगी। वहीं अगर किसी सूरत में पत्नी की भी मौत हो जाती है तो नॉमिनी की एकमुश्त रकम मिलेगी जो कि 1000 रुपए पेंशन के लिए 1 से 7 लाख और और 5000 रुपए पेंशन के लिए 5 से 8 लाख रुपए होगी।
जानिए कितनी पेंशन के लिए आपको देना होगा कितना रुपया: इस योजना के अंतर्गत आप अपनी उम्र और ऐच्छिक पेंशन के हिसाब से प्रीमियम का भुगतान कर सकते हैं। मान लीजिए आपकी उम्र 18 वर्ष है और आप 60 वर्ष की उम्र के बाद 1000 रुपए की मासिक पेंशन चाहते हैं तो आपको इसके लिए सिर्फ 42 रुपए मासिक देने होंगे। वहीं आपको 2000 रुपए की मासिक पेंशन के लिए 84 और 3000 रुपए की मासिक पेंशन के लिए 126 रुपए देने होंगे। अपनी उम्र के हिसाब से जानिए आपको कितनी रकम देनी होगी।

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है? सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केम

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST