Skip to main content

BAD NEWS-7वें वेतनमान की खुशी पर इस फरमान ने लगाया ग्रहण, उलझन में कर्मचारी

BAD NEWS-7वें वेतनमान की खुशी पर इस फरमान ने लगाया ग्रहण, उलझन में कर्मचारी

दरअसल सरकार ने अपने कर्मचारियों को सातवें वेतनमान का फायदा देने के साथ ही इसपर एक पेंच भी लगा दिया। सरकार की ओर से जारी आदेश में यह साफ किया गया है कि, नगर निगम के पास फंड नहीं है, ऐसे सातवें वेतनमान पर जो अतिरिक्त खर्च आएगा उसकी भरपाई खुद निकाय को करनी होगी।
नगरीय प्रशासन विकास विभाग के उप सचिव ने एक फरवरी को सातवां वेतनमान देने का आदेश जारी किया था। इसमें साफ तौर पर इस बात का जिक्र किया गया है कि, सातवां वेतनमान देने में जो भी रकम अतिरिक्त खर्च होगी उसकी भरपाई संबंधित निकायों को करनी होगी।


वेतनमान के लिए सरकार से किसी भी तरह का अनुदान नहीं दिया जाएगा। अब सवाल यह उठता है कि अगर निकाय खुद की आय से कर्मचारियों को सातवां वेतनमान देते हैं तो विकास कार्य में होने वाले खर्च के लिए फंड की कमी से जूझना पड़ेगा।


कर्मचारी नेताओं का कहना है कि, वित्तीय संकट के लिए सरकार खुद जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि, हमसे राशन कार्ड, जनगणना सर्वे जैसे अतिरिक्त काम भी कराए जाते हैं। जिसकी वजह से निगमके कर्मचारी टैक्स की वसूली नहीं कर पाते हैं। इसके साथ ही कर्मचारी नेताओं ने कहा कि, नगर निगम और निकाय बड़े उद्योगों से टैक्स की वसूली नहीं कर सकते हैं। ऐसे में वेतमान की भरपाई सरकार को ही करनी चाहिए।


कर्मचारी नेताओं ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि, सरकार का यह फरमान एक तीर से दो निशाने लगाने जैसा है। एक तरफ जहां कर्मचारियों को रिझाया गया वहीं दूसरी ओर पेंच फंसाकर मामले को उलझा दिया गया। वहीं बड़े अधिकारी अभी इस मामले में कुछ भी कहने से बच रहे हैं।
संदर्भ पढ़ें

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है? सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केम

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST