Skip to main content

आइसक्रीम पार्लर खोलने का मौका, ये कंपनियां दे रही हैं फ्रेंचाइजी

आइसक्रीम पार्लर खोलने का मौका, ये कंपनियां दे रही हैं फ्रेंचाइजी

नई दिल्‍ली। गर्मी का सीजन शुरू हो रहा है। इसके साथ ही बाजार में प्रोडक्‍ट्स की डिमांड भी बदल गई है। अब आइसक्रीम की डिमांड बढ़ने लगी है। अगर आप ऐसे मौके में बिजनेस शुरू करने की सोच रहे हैं तो आप बड़ी आइसक्रीम कंपनियों की फ्रेंचाइजी ले सकते हैं। ये कंपनियां आइसक्रीम पॉर्लर खोलने के लिए फ्रेंचाइजी दे रही है। आप भी इस मौके का फायदा उठा सकते हैं। अच्‍छी बात यह है कि इसके लिए किसी तरह की विशेषज्ञता या अनुभव की जरूरत नहीं है। कंपनियां बिजनेस की बेसिक जानकारी और ट्रेनिंग देगी। इस पर ज्‍यादा खर्च भी नहीं आएगा।आज हम आपको इन बड़ी कंपनियों के बारे में बता रहे हैं, जिनकी फ्रेंचाइजी लेकर आप अच्‍छी खासी इनकम कर सकते हैं। आइए जानते हैं, कौन सी हैं ये कंपनियांकैसे लें क्‍वालिटी वाल्‍स का पार्लर
आइसक्रीम में क्‍वालिटी वाल्‍स एक बड़ा ब्रांड है। भारत में क्‍वालिटी वाल्‍स के 300 से अधिक पार्लर हैं। फ्रेंचाइजी लेने के लिए आप क्‍वालिटी वाल्‍स की वेबसाइट पर ऑनलाइन अप्‍लाई कर सकते हैं। हालांकि इस वेबसाइट पर इन्‍वेस्‍टमेंट की डिटेल नहीं बताई गई है, लेकिन फ्रेंचाइजी इंडिया के मुताबिक क्‍वालिटी वाल्‍स के पार्लर खोलने के लिए 2 लाख रुपए के शुरुआती इंवेस्‍टमेंट की जरूरत पड़ती है। क्‍योसक के लिए आठ बाई छह फुट स्‍पेस में यह पार्लर खोला जा सकता है। फ्रेंचाइजी देने के बाद कंपनी की ओर से मार्केटिंग, एडवर्टाइजिंग, बिजनेस और प्रमोशनल सपोर्ट भी दिया जाता है। क्‍वालिटी वाल्‍स की ओर से स्विर्ल्‍स के नाम से भी फ्रेंचाइजी दी जाती है, लेकिन उसमें कम से कम 6 लाख रुपए के इंवेस्‍टमेंट की जरूरत होती है।
वादी लाल आइसक्रीम फ्रेंचाइजी लेना है आसान
आइसक्रीम ब्रांड में एक और जाना-पहचाना नाम है वादीलाल । वादीलाल द्वारा 3 तरह की फ्रेंचाइजी ऑफर की जाती है। वादीलाल हैंगआउट्स, वादीलाल स्‍कूप शॉप, वादीलाल क्‍योस्‍क। वादीलाल क्‍योस्‍क आप किसी भी मॉल, पार्क या बाजार में लगा सकते हैं। जबकि स्‍कूप शॉप के लिए 250 से 400 वर्ग फुट स्‍पेस की जरूरत होती है। फ्रेंचाइजी के लिए कंपनी की वेबसाइट पर ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है। फ्रेंचाइजी डॉट इन के मुताबिक वादीलाल की फ्रेंचाइजी पर 5 से 10 लाख रुपए तक का इंवेस्‍टमेंट होता है।
आइसक्रीम ब्रांड के तौर पर अमूल लंबे समय से अपनी पहचान बनाए हुए है। अमूल की वेबसाइट के मुताबिक, यदि आप अमूल क्‍योसक, अमूल रेलवे पार्लर, अमूल आउटलेट खोलना चाहते हैं तो 100 से 150 वर्ग फुट की दुकान किराये पर ले लीजिए और मात्र से 1 से 2 लाख रुपए के इंवेस्‍टमेंट से आप यह पार्लर खोल सकते हैं। अमूल द्वारा ब्रांड डिपोजिट के तौर पर केवल 25 हजार रुपए लिए जाते हैं, जो तीन साल तक रिफंड नहीं होते, उसके बाद आप अपना डिपोजिट रिफंड करा सकते हें। इसके अलावा रिनोवेशन पर 1 लाख रुपए और इक्‍वीपमेंट (जिसमें डीप फिर्जर, रेफ्रीजरेटर, ओवन , चेस्‍ट मिल्‍क कूलर आदि प्रमुख है) पर लगभग 70 हजार रुपए का खर्च आता है। इसके बाद अमूल होल सेल सप्‍लायर्स से आप अमूल डेयरी प्रोडक्‍ट्स मंगाकर अपने पार्लर में रख सकते हैं। इसमें आइसक्रीम की एमआरपी पर 20 फीसदी रिटर्न और पाउच मिल्‍क पर 2.5 फीसदी और मिल्‍क प्रोडक्‍ट पर 10 फीसदी रिटर्न मिल सकता है।
कितने में शुरू हो सकता है अमूल आइसक्रीम स्‍कूपिंग पार्लर
अगर आपका बजट अच्‍छा खासा है तो आप अमूल आइसक्रीम स्‍कूपिंग पार्लर खोल सकते हैं। इसके लिए आपको कम से कम 300 वर्ग फुट स्‍पेस चाहिए और आपको लगभग 6 लाख रुपए का इन्‍वेस्‍मेंट करना होगा। अमूल ब्रांड स्क्यिोरिटी के लिए 50 हजार रुपए लेता है, जबकि रिनोवेशन पर आपको लगभग 4 लाख रुपए खर्च करने होंगे। और डेढ़ लाख रुपए इक्विपमेंट पर खर्च होंगे। अमूल की रेसिपी बेस आइसक्रीम, फ्लोट्स, शेक, बेकड पिजा, सेंडविच, चीज स्‍लाइस बर्गर, गारलिक ब्रेड, हॉट चॉकलेट ड्रिंक पर 50 फीसदी तक रिटर्न मिलता है। इसके अलावा आइसक्रीम पर 20 फीसदी मार्जिन मिलता है।
आगे पढ़ें : मल्‍टी ब्रांड पॉर्लर में है फायदा
मल्‍टी ब्रांड पॉर्लर में है फायदा
यूं तो हर बड़ी कंपनी आइसक्रीम पार्लर की फ्रेंचाइजी देती है, लेकिन यदि आप इंडिपेंटेट पार्लर खोलते हैं तो वह सस्‍ता भी पड़ेगा और कस्‍टमर्स को एक साथ कई ब्रांड की आइसक्रीम एक ही जगह मिलेंगी तो आपकी सेल्‍स बढ़ेगी। 1 से 2 लाख रुपए के इंवेस्‍टमेंट के साथ यह पार्लर शुरू किया जा सकता है। इसके लिए सबसे पहले आपको अच्‍छी लोकेशन पर एक शॉप किराए पर लेनी होगी। वहां आप अपनी फंड कैपेसिटी के मुताबिक इंटीरियर, फर्नीचर के अलावा एक डीप फ्रीजर लगाना होगा। साथ ही, शहर के आइसक्रीम डिस्ट्रिब्‍यूटर्स से संपर्क करके अलग-अलग ब्रांड की आइसक्रीम रख सकते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST