Skip to main content

Jio लगाएगी देशभर में मोबाइल टावर, आपके पास कमाई का अच्छा मौका

Jio लगाएगी देशभर में मोबाइल टावर, आपके पास कमाई का अच्छा मौका

नई दिल्ली। अगर आपके पास अपना छत या 500 वर्गफुट की जगह है तो एक्स्ट्रा इनकम करने का एक बेहतर विकल्प यह हो सकता है कि आप मोबाइल टावर के लिए किसी टेलिकॉम कंपनी से संपर्क करें। कंपनियां अपना नेटवर्क मजबूत करने के लिए मोबाइल टावर लगाती हैं। ऐसे में आने वाले दिनों में तो आपके पास बेहतर मौका भी आने वाला है। देश की बड़ी टेलिकॉम कंपनियां जल्द ही अपने इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने और कॉलड्रॉप को रोकने के लिए 74 हजार करोड़ रुपए खर्च करने जा रही हैं। इसमें मोबाइल टावर लगवाना भी शामिल है।जियो लगाएगी और 1 लाख टावर
इसी क्रम में रिलायंस जियो की प्लानिंग है कि वह नेटवर्क को मजबूत बनाने और डाटा स्पीड बढ़ाने के लिए अगले वित्त वर्ष से यानी अप्रैल 2018 से देशभर में करीब 1 लाख मोबाइल टावर और लगाएगी। इसके पहले भी कंपनी ने पहले चरण में टावर लगाए हैं। रिलायंस जियो ने पिछले साल ही इस बात का एलान किया था, जिसके बारे में फिर इस साल टेलिकॉम मिनिस्ट्री को यह जानकारी दी है। जानकारी के अनुसार जियो 1 लाख टावर लगाने के लिए 50 हजार करोड़ रुपए खर्च करेगी। ऐसे में आपको भी इनकम करने का अच्छा मौका है।
आगे पढ़ें, मोबाइल टावर लगानके के लिए क्या करना होगा………….
टावर लगाने वाली कंपनी को दें पूरी डिटेल
टेलिकॉम कंपनियां प्राइवेट कंपनियों को मोबाइल टावर लगवाने का कांट्रैक्ट देती हैं। इनमें इंडस टावर्स, अमेरिकन टॉवर कॉरपोरेशन, भारती-इन्फ्राटेल, एटीसी, वायोम, जीटीएल अलग-अलग लोकेशंस पर टावर लगाने का काम करती हैं। आपको इन कंपनियों की वेबसाइट पर जाना होगा, जहां एक लिंक मिलेगा, जिसमें अपने नाम और एड्रेस के साथ प्रॉपर्टी की पूरी डिटेल देनी होगी। बताना होगा कि आपका प्लॉट है या छत, ओनरशिप आपके नाम से है या ज्वॉइंट, प्रॉपर्टी रेजिडेंशियल है या कमर्शियल। इसके बाद अपने राज्य और शहर की जानकारी देनी होगी।सीधे टेलिकॉम कंपनी को कर सकते हैं कांट्रैक्ट
आप सीधे रिलायंस जियो टीम या अन्य ऑपरेटर्स को मोबाइल टावर के लिए कॉन्टैक्ट कर सकते हैं। इसमें भी आपको अपनी और प्रॉपर्टी की पूरी डिटेल देनी होगी। मोबाइल ऑपरेटर टीम खुद यह तय करती है कि किन लोकेशन में टावर लगवाने की जरूरत है। इसके बाद वे जगह का चुनाव करते हैं। अगर चुनी हुई लोकेशन में आपकी प्रॉपर्टी है तो आप इसका बेनेफिट ले सकते हैं।
चाहिए कितना स्‍पेस
अगर आपके पास छत है तो टावर लगवाने के लिए आपको कम से कम 500 वर्ग फुट की जगह देनी होगी। वहीं, अगर आपके पास प्लॉट है तो इसके लिए कम से कम 2000 वर्ग फुट की जगह होनी जरूरी है।
ये डाक्‍युमेंट हैं जरूरी
-लैंड पेपर की फोटोकॉपी, जहां टावर लगना है
-सिविक बॉडी से एनओसी के पेपर
-लैंड सर्वे रिपोर्ट
-अपना आईडीप्रूफ
25 हजार तक मिल सकता है रेंट
-मोबाइल टावर लगवाने पर मोबाइल ऑपरेटर कंपनियां एक फिक्स रेंट देती हैं।
-मंथली रेंट अमूमन शहरों में 25 से 30 हजार रुपए तक होता है। मेट्रो सिटीज में बेहतर लोकेशंस में रेंट और ज्यादा हो सकता है। वहीं, छोटे शहरों में कुछ कम हो सकता है।
-रिलायंस जियो की ओर से भी कहा गया है कि रेंट अलग-अलग लोकेशंस के हिसाब से तय होता है, जिसकी जानकारी खुद कंपनी सर्वे के बाद देती है। जहां टावर लगना होता है, वहां का रेंट कंपनी तय करती है।
नहीं होगा आपका खर्च
अगर आपकी प्रॉपर्टी पर मोबाइल टावर लग रहा है तो इसके लिए आपको अपनी ओर से कोई खर्च नहीं करना होगा। यह बिल्कुल फ्री है, सारा काम मोबाइल टावर लगाने वाली कंपनी को होगा।

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास
आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है?

सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केमिकल के कारण होता…

P M JAY HOSPITAL LIST

P M JAY HOSPITAL LIST