Skip to main content

क्या आप जानते हे ब्लॉग और वेबसाइट के बीच अंतर क्या हैं?

Image result for ब्लॉग
 जो भी व्यक्ति अपना एक ब्लॉग बनाता है उस वेबसाइट के सभी चीजों का ध्यान रखता है उसे ब्लॉगर(Blogger) कहते हैं। इन्हीं लोगो के अच्छे Blog Post लिखने के कारण आज के दिन में Blogging मशहूर बन गया है। ब्लॉग में पोस्ट लिखने के तरीके को ब्लॉग्गिंग कहते हैं। Blogging में लोग अपने खुद नित दिन के अनुभव को Update करते हैं और साथ ही मौजूदा मामलों के बारे में भी लिखते हैं।

ब्लॉग
  • ब्लॉग में पोस्ट लिखें जाते हैं जो तारीख, दिन और समय के अनुसार प्रकाशित किये जाते हैं।
  • ब्लॉग में पोस्ट नियमित रूप से पब्लिश किये जाते हैं।
  • ब्लॉग में रीडर्स के लिए Comment section होता है।
  • ब्लॉग में RSS फीड कि सुविधा होती है जिसको Visitors/Readers सब्सक्राइब कर सकते हैं।
  • एक ब्लॉग किसी वेबसाइट का भाग हो सकता है।
उदहारण – BloggerTipsTricksAchhikhabar1Hindi, ShoutMeLoudLabnol आदि… जैसे वेबसाइट


वेबसाइट
  • वेबसाइट का Homepage स्थिर(Static) होता है।
  • एक वेबसाइट कई कारणों से बनाया जा सकता है जैसे- Product को बेचने के लिए, Fan वेबसाइट अपने followers के लिए, Social या Chatting वेबसाइट, Shopping या e-Commerce वेबसाइट, अपने वेबसाइट Visitors को अपने Contact कि जानकारी देने के लिए।
  • Website में Homepage के बाद अन्य Service पेज होते हैं जो सभी Static होते हैं।
उदहारण – FacebookWWEAlexa आदि… जैसे वेबसाइट

Blogging कौन करता है और इसके लिए कौन Eligible है?

आज के दिन में Internet पर Blogging कि धूम मची हुई है। जो कोई देखो अपने Expression और Thoughts को अपने Blog से लोगों तक पहुँचाना चाहता है।
ये आपके और मेरे जैसे ही इंसान हैं जो घर बैठे अपने Blog पर Post लिखते हैं और ब्लोग्गिं(Blogging) करते हैं। Blogging कोई भी कर सकता है बस उसके मन में अपने ज्ञान को लेख(Post) के माध्यम से Internet पर Publish करने की इच्छा होनी चाहिए।
Blogging करने के लिए किसी भी प्रकार कि Qualification कि आवश्यकता नहीं होती है। बस आपके पास अपना Blog होना चाहिए, एक इन्टरनेट Connection और एक Computer(PC)। अगर आपके पास खुद का Computer या PC नहीं है तो आप Internet Parlour में जा कर भी Blogging कर सकते हैं पर खुद का PC होने ज्यादा सुरक्षित होता है।

लोग Blog क्यों बनाते हैं और Blogging क्यों करना चाहते हैं?

यह एक बहुत ही साधारण सवाल है जो लोगों के पूछते समय मेने सुना है। लोग पूछते हैं – लोग Blog या Niche Website क्यों बनाते हैं लोगों के Blogging करने का क्या कारण हैं?
इस साधारण से सवाल का साधारण सा जवाब यह है कि लोग Blog के माध्यम से अपने Talent, Knowledge,Passion को पूरी दुनिया के सामने रख सकते हैं।
Internet एक ऐसा जगह है जहाँ आपकी पहुँच अनंत है। वो आपके ऊपर है आप कहाँ तक पहुंचना चाहते हैं। एक Blogger अपने Blog के माध्यम से लाखों-करोड़ों लोगों तक अपनी बात को पहुंचा सकता है बस Blog के Subscriber, Visitors कि तागाद उस हद तक होना चाहिए।
Online कुछ ऐसे Blogger होते हैं जो अपने स्वयं के हर दिन के कार्यों को अपने Blog पर Post करते हैं और लोगों के साथ Share करते हैं। पर ज्यादातर Blogger ऐसे हैं जो अपने जीवन से जुडी बातों को ना बता कर अपने Extreme Knowledge को सबसे Share करते हैं। ऐसे Blog लोग ज्यादा पसंद करते हैं क्योंकि इससे उन्हें अपने Problems का Solution मिलता है।
एक Blog किसी भी प्रकार के topic पर बनाया जा सकता है चाहें वो – मोबाइल टिप्स , टेक्नोलॉजी, हेल्थ या किसी भी विषय पर हो।
सोर्स 1hindiblogging

Comments

Popular posts from this blog

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास

जायफल: स्वादिष्ट मसाले का खून भरा इतिहास आज हम ऐसे मसाले की बात करने वाले हैओ जिसे आम तौर ख़िर में छिड़का जाता है । जी हाँ , जायफल की ! आपको शायद ताजुब्ब होगा कि ज्यादातर लोग शायद इसकी उत्पत्ति के बारे में विशेष रूप से कुछ नही जाने हैं ।समें कोई संदेह नहीं है – यह सुपरमार्केट में मसाला गलियारे से आता है, है ना? लेकिन इस मसाले के पीछे दुखद और खूनी इतिहास छुपा छह है । लेकिन सदियों से जायफल की खोज में हजारों लोगों की मौत हो गई है। जायफल क्या है? सबसे पहले हम जानते है कि आखिर ये जायफ़ल है क्या ? तो ये नटमेग मिरिस्टिका फ्रेंगनस पेड़ के बीज से आता है । जो बांदा द्वीपों की लंबीसदाबहार प्रजाति है जो इंडोनेशिया के मोलुकस या स्पाइस द्वीप समूह का हिस्सा हैं। जायफल के बीज की आंतरिक गिरी को जायफल में जमीन पर रखा जाता है ।जबकि अरिल (बाहरी लेसी कवर) से गुदा निकलता है। जायफल को लंबे समय से न केवल भोजन के स्वाद के रूप में बल्कि इसके औषधीय गुणों के लिए भी महत्व दिया गया है। वास्तव में जब बड़ी मात्रा में जायफल लिया जाता है तो जायफल एक ल्यूकोसिनोजेन है जो मिरिस्टिसिन नामक एक साइकोएक्टिव केम

कैसे खोलें डीमेट अकाउंट?

DEMAT अकाउंट कहाँ और कैसे ओपन किया जाता है, इस पोस्ट में हम जानेंगे- DEMAT अकाउंट खोलने के लिए आवश्यक DOCUMENTS DEMAT अकाउंट फ़ीस कितना होता है, DEMAT अकाउंट नॉमिनेशन आइये सबसे पहले देखते है-  DEMAT अकाउंट कहा ओपन किया जाता है, भारत में SEBI द्वारा बनाए गाइडलाइन के अनुसार Demat Account सर्विस दो प्रमुख संस्थाओ द्वारा दी जाती है, ये दोनों संस्था है, NSDL (The National Securities Depository Limited) CDSL (Central Depository Services (India) Limited) अगर आपने ध्यान दिया होगा, तो आपको  पता होगा कि, PAN CARD भी इन्ही दोनों संस्थाओ में प्रमुख रूप से NSDL द्वारा बनाया गया होता है, और हो सकता है आपने पैन कार्ड के सम्बन्ध में NSDL का नाम पहले जरुर सुना होगा, खैर बता दे कि जिस तरह PAN CARD बनाने के लिए आप किसी एजेंट की मदद से ऑनलाइन एप्लीकेशन देते है, और कुछ दिनों में आपका पैन कार्ड बन जाता है, वैसे ही आपको DEMAT अकाउंट खोलने के लिए आपको डायरेक्टली NSDL और CDSL के पास जाने की जरुरत नहीं , और आप DEMAT अकाउंट खोलने का एप्लीकेशन किसी भी प्रमुख बैंक और स्टॉक ब्रोकर के पास कर सकते है, और अगर बात की जा